DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रास सीट के लिए भाजपा में घमासान

राज्यसभा की खाली होने वाली लगभग साठ सीटों के लिये अप्रैल माह में होने वाले चुनाव में भाजपा में घमासान मचा हुआ है। दावों प्रतिदावों के साथ लोग अपना अपना जुगाड़ बिठाने में जुट गये हैं। पार्टी इन चुनावों में अपने दम पर लगभग 16 सीटें जीतने का दावा कर रही है। पार्टी के उच्चपदस्थ सूत्र पंजाब, बिहार, झारखंड, उडी़सा, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, हिमाचल प्रदेश, उत्तरांचल, उत्तर प्रदेश, राजस्थान से एक-एक सीट और गुजरात व मध्यप्रदेश से तीन-तीन सीटें तय मान रहे हैं। इन्हीं सोलह सीटों के लिये पार्टी में मारकाट मची है। कुछ सीटों को लेकर पार्टी के पीएम इन वेटिंग लालकृष्ण आडवाणी और राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह में मतभेद की भी खबरें हैं। पार्टी की राज्य इकाइयों में राज्य से बाहर के उम्मीदवारों को लेकर काफी विरोध है। सूत्रों के अनुसार राज्य इकाईयों ने आलाकमान पर भारी दबाव बनाया गया है कि इन चुनावों में राज्य के कर्मठ कार्यकर्ताआें को ही तब्बजो दी जाये। कुछ उम्मीदवारों की उम्मीदवारी तय मानी जा रही है। हिमाचाल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शांता कुमार का राज्यसभा में जाना तय माना जा रहा है। पार्टी ने विधानसभा चुनाव के समय शांता कुमार को मुख्यमंत्री की दौड़ से बाहर होने के लिये कहा था और उसके एवज में उन्हंे राज्यसभा में भेजने का वायदा किया गया था। इसी सूची में गुजरात से पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष पुरुषोत्तम रुपाला और निर्वतमान राज्यसभा सदस्य जयंती लाल बरोट का नाम जुड़ा हुआ है। नरेन्द्र मोदी के कट्टर विरोधी गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री केशूभाई पटेल को भी दोबारा राज्यसभा में भेजा जा सकता है। सूत्रों ने बताया कि नरेन्द्र मोदी अपना कद ऊंचा करने और पटेलों के हमदर्द होने का संकेत देने के लिये केशूभाई को टिकट देने की सिफारिश कर सकते हैं। पांचजन्य के पूर्व संपादक तरुण विजय भी जोर लगा रहे हैं। लेकिन उन्हें संघ का समर्थन नहीं है। बिहार से पत्रकार एम. जे. अकबर आडवाणी की पहली पसंद बताये जा रहे हैं। लेकिन राजनाथ सिंह और संघ परिवार की तरफ से अभी तक उनको हरी झंडी नहीं मिली है। राजस्थान के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष महेश शर्मा, पत्रकार स्वपन दास गुप्त, राजीव प्रताप रूढ़ी, प्रकाश जावड़ेकर, पूर्व केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री सी. पी. ठाकुर, प्रमोद महाजन की पत्नी रेखा महाजन, पूर्व महिला आयोग की अघ्यक्ष पूर्णिमा आडवाणी, उत्तरांचल के पूर्व मुख्यमंत्री भगत सिंह कोशियारी, गुजरात प्रदेश अध्यक्ष पुरुषोत्तम रुपाला, पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह से संब सचिव प्रभात झा, सांसद माया सिंह, पत्रकार बलबीर पुंज और प्रभु चावला आदि अपनी उम्मीदवारी के लिये जोड़तोड़ में जुटे हैं। किसको टिकट मिलेगा किसको नहीं यह तो समय ही बतायेगा। लेकिन कुछ नामों को लेकर आडवाणी और राजनाथ के बीच मतभेद की खबरें भी हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: रास सीट के लिए भाजपा में घमासान