अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इन बेटियों पर तो है माता-पिता को नाज

ैजाबाद के एक परचून दुकानदार की बेटी सुमन अब सहारागंज मॉल के एक प्रतिष्ठित शोरूम में सेल्सगर्ल है। बिन माँ की ये बेटी अब अपने छोटे भाई-बहनों और पिता का सहारा है। उसके पिता को भी गर्व है कि वह उनकी बेटी है। दोनों मिलकर पूरे परिवार को चला रहे हैं।ड्ढr ‘अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस’ से पहले ‘हिन्दुस्तान’ ने राजधानी के बड़े शोरूम में काम करने वाली सेल्सगर्ल्स की जिंदगी को करीब से देखा। कई तो ऐसी हैं जिन्होंने सेल्स गर्ल के तौर पर काम शुरू करके खुद को स्टोर मैनेजर तक पहुँचा दिया। सहारागंज स्थित वीगा शोरूम की स्टोर प्रबंधक अंकिता मिश्राने बताया कि उसे यहाँ तक के सफर में कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ा पर हिम्मत नहीं हारी। मेहनत व ईमानदारी से अपना काम किया। आज वह एक ऊँचे पद पर है। सहारागंज में कादम्बरी जूसेज के नाम से अपना स्टॉल चला रही सीता पहले होण्डा के शोरूम में काम करती थी। उसने बताया कि माता-पिता का नाम रोशन करने की चाह उसे यहाँ तक ले आई। सीता ने बताया कि पिता की मृत्यु के बाद उसने परिवार को कभी उनकी कमी होने नहीं दी। एक प्रतिष्ठित शोरूम में सेल्सगर्ल रुचि ने बताया कि हर लड़की के अन्दर चाह होनी चाहिए अपने पैरांे पर खड़े होने की। रुचि ने बताया कि जो सेल्सगर्ल के काम को अच्छा नहीं समझते, उनकी मानसिकता का दोष है। एक शोरूम की सेल्स गर्ल नमिता घर की सबसे छोटी बेटी होने के बावजूद परिवार की जिम्मेदारी उठा रही है। सुबह 11 से रात आठ बजे तक वह काम करती है। उसके बाद घर भी संभालती है। सहारागंज स्थित आर्चीज गैलरी की स्टोर प्रबंधक पूनम तिवारी पहले एक घरेलू महिला थीं। पर अपने पति से कन्धा मिलाकर चलने की चाहत उन्हें यहाँ तक ले आई। ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: इन बेटियों पर तो है माता-पिता को नाज