अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ग्रिड बचा पर ठहर गईं ट्रेनें

उत्तरी ग्रिड शुक्रवार को फेल होते बचाा। घने कोहरे से तड़के चार बजे ग्रिड की प. यूपी, हरियाणा व दिल्ली की 50 पारेषण लाइनें ठप हो गईं। यूपी पावर कारपोरेशन और पावर ग्रिड दोनों की पारेषण लाइनों के बंद होते ही ग्रिड का संतुलन बिगड़ गया जिससे गाजियाबाद, मेरठ, बुलंदशहर, गौतमबुद्धनगर, सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, अलीगढ़, आगरा, मथुरा आदि जिलों की बिजली आपूर्ति ठप हो गई। हावड़ा-दिल्ली रूट राजधानी व शताब्दी समेत दर्जनों ट्रेनों का संचालन ठप हो गया। लगभग 10 घंटे तक बिजली आपूर्ति रुकी रही।ड्ढr शक्ितभवन मुख्यालय में अफरा-तफरी मच गई। अधिकारियों ने लाइनों को चालू करने की कोशिश की, लेकिन कोहरे के कारण वे सफल नहीं हो सके। सुबह 8.50 बजे के बाद एक-एक करके लाइनें चालू की जा सकीं। दोपहर एक बजे तक स्थिति सामान्य हुई। तभी ट्रेनें भी गंतव्य को रवाना की गईं। पूरी स्थिति से ऊर्जा विभाग के अफसरों ने मुख्यमंत्री व उच्चाधिकारियों को अवगत कराया।ड्ढr सूत्रों ने बताया कि ग्रिड का संतुलन बिगड़ते ही मुजफ्फरनगर, मुरादनगर और दादरी जैसे बड़े सब-स्टेशनों की लाइनें भी बंद हो गईं। इससे पश्चिमी यूपी का सारा लोड पूर्वी यूपी में आ गया। पूर्वी यूपी के कई जिलों में बिजली आपूर्ति उस वक्त रुकी थी, इसलिए फ्रीक्वेंसी गड़बड़ा गई। तत्काल पूर्वी यूपी की सप्लाई खोली गई। घने कोहरे से जो 50 पारेषण लाइनें ट्रिप हो गईं, उनमें पनकी-मुरादाबाद, मुरादनगर-मुजफ्फरनगर, विष्णुप्रयाग-मुजफ्फरनगर, मुरादाबाद-मंडोला और मंडोला-बरेली प्रमुख रूप से शामिल हैं। इनके कारण ही पश्चिमी यूपी को बिजली आपूर्ति कई घंटे बंद रही। अफसरों ने बताया कि पावर कारपोरेशन की पारेषण लाइनों के कारण केवल मथुरा में 15 मिनट ट्रेनों की बिजली आपूर्ति बंद हुई। अन्य रूटों पर ट्रेनों के संचालन के लिए रेलवे एनटीपीसी से बिजली लेता है। क्योंकि कोहरे से एनटीपीसी की पारेषण लाइनें भी बंद हो गई थीं, इससे अन्य रूटों पर ट्रेनों का संचालन भी बंद रहा। एक अधिकारी ने बताया कि दो घंटे बाद ही पश्चिमी यूपी के जिलों में बिजली आपूर्ति सामान्य हो गई थी और दोपहर एक बजे तक पूरी आपूर्ति सामान्य कर दी गई।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ग्रिड बचा पर ठहर गईं ट्रेनें