अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एक घंटे तक सीट के नीचे छिपे रहे एसी के यात्री

हावड़ा से दिल्ली जा रही पूर्वा एक्सप्रेस के एसी के यात्री शुक्रवार को उपद्रवी छात्रों के भय से एक घंटे तक सीट के नीचे छिपे रहे। सीट के नीचे छिप कर यात्री भगवान से यही प्रार्थना कर रहे थे कि उपद्रवी बोगी के अंदार न घुसें। पटना जंक्शन पहुंचने के बाद यात्रियों ने कहा कि सीट के नीचे छिपे रहने के कारण उनलोगों की जान बची। जंक्शन पर ट्रेन शाम पांच बजे से दो घंटे तक खड़ी रही। प्लेटफार्म नंबर तीन पर अफरातफरी मची थी। टूटे शीशे में सेलो टेप चिपकाकर ट्रेन को रवाना किया गया। इस बीच यात्रियों को हाल जानने के लिए स्टेशन प्रबंधक समेत कोई भी अधिकारी प्लेटफार्म पर नहीं पहुंचे, जबकि दर्जनों यात्रियों को हल्की चोटें आयी थीं। कुछ यात्रियों का प्रथम उपचार लायंस क्लब के कर्मचारी ने किया। यात्रियों ने पटना रेल पुलिस को भी बयान दिया। यात्रियों को कुछ जानकारी नहीं थी कि कौन और क्यों पत्थर बरसा रहा है। एक-एक कर एसी बोगी का सभी शीशा चकनाचूर हो गया।ड्ढr ड्ढr इसी बीच एसी टू में यात्रा कर रहे पश्चिम बंगाल के बांकुरा के वरीय पुलिस अधीक्षक आर के सिंह बोगी से बाहर निकले। घटना स्थल पर उपस्थित आरपीएसएफ के अधिकारी व जवानों को उन्होंने हवा में गोली चलाने को कहा। उनके काफी कहने के बाद भी जवान मूक दर्शक बने रहे। काफी देर के बाद यात्रियों को जानकारी मिली की छात्रों द्वारा पथराव किया जा रहा है और ट्रेन मोकामा-किउल के बीच बड़हिया स्टेशन के पास खड़ी है। एसी टू में यात्रा कर रही अमेरिका की मेरी जोशी ने बताया कि वे जसीडीह से आ रही हैं। शीशा तोड़ते हुए बोगी के अंदर पत्थर आते व जोरों की आवाज सुनकर उन्हें लगा कि आतंकवादियों ने हमला कर दिया है। उन्हें लग रहा था कि थोड़ी देर बाद आतंकवादी बोगी में घुसकर उनलोंगों का गर्दन काट देंगे। इस बोगी में कुल छह अमेरिकन थे। एसी थ्री की तीन बोगियों की संख्या 02125, 041001110, एसी टू की दो बोगी 84076 व 04051 तथा एसी फस्ट की बोगी संख्या 037 की कुल 62 खिड़कियों का शीशा क्षतिग्रस्त हुआ था। 20 फरवरी को भी बड़हिया स्टेशन पर विक्रमशिला एक्सप्रेस पर छात्रों ने पथराव किया था, जिसमें इंजन व स्टेशन भवन क्षतिग्रस्त हुआ था। दानापुर रेल मंडल नेइस घटना में आठ यात्रियों को चोटें लगने की पुष्टी की, जिनका ईलाज पटना जंक्शन पर कराया गया।ड्ढr ड्ढr पटना से लौटी मगध, रात में खुली जनसाधारणड्ढr पटना (हि.प्र.)। दिल्ली-इस्लामपुर 2402 मगध एक्सप्रेस शुक्रवार को पटना जंक्शन से ही 2401 बनकर वापस लौट गयी। इस कारण यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। हालांकि शुक्रवार को एक दर्जन ट्रेनें घंटो विलंब से पटना पहुंची। रेल अधिकारी ने बताया कि मगध एक्सप्रेस पांच घंटे विलंब से आई थी, जिस कारण इसे पटना से ही वापस कर दिया गया। इसी प्रकार 2388 जनसाधारण एक्सप्रेस छह घंटे लेट आयी, जिस कारण राजेंद्र नगर टर्मिनल से यह वापसी में साढ़े पांच घंटे लेट रात दस बजे रवाना हुई। लेट आने वाली अन्य ट्रेनों में 23संपूर्णक्रांति एक्सप्रेस चार घंटे, 2368 विक्रमशिला ढाई घंटे, 23श्रमजीवी एक्सप्रेस दो घंटे, 4084 महानंदा एक्सप्रेस सात घंटे, 22संघमित्रा एक्सप्रेस पांच घंटे शामिल थीं। रेल अधिकारी ने बताया कि गाजियाबाद में मालगाड़ी का पहिया पटरी से उतर गया था, जिस कारण दिल्ली से आने वाली ट्रेंने विलबिंत हुईं।ड्ढr ड्ढr पटना-मुगलसराय लाइन में रहेगा मेगा ब्लॉकड्ढr पटना (हि.प्र.)। दानापुर रेल मंडल के पटना-झाझा व पटना-मुगलसराय रेलखंड पर सात, आठ व नौ मार्च को रात 11 से सुबह चार बजे तक अपरिहार्य कारणों से मेगा ब्लॉक लिया जा जाएगा। इस करण ट्रेनों को नियंत्रित कर चलाया जाएगा। इस बीच 2505 नॉर्थइस्ट एक्सप्रेस, 3005 पंजाब मेल, 304अमृतसर एक्सप्रेस, 2333 विभूति एक्सप्रेस का परिचालन प्रभावित होगा।ड्ढr ड्ढr पूछताछ काउंटर पर मिली गलत जानकारीड्ढr पटना (हि.प्र.)। पटना जंक्शन के पूछ-ताछ काउंटर पर गलत जानकारी मिलने से शुक्रवार को लोगों को काफी परेशानी हुई। रात आठ बजे बताया गया कि टाटा-दानापुर एक्सप्रेस प्लेटफार्म नंबर पांच पर आ रही है। लोग प्लेटफार्म पर पहुंच गए। लोग अपने परिजन को रिसीव करने जंक्शन पहुंचे थे। शाम 7.05 बजे पहुंचने वाली ट्रेन अंतत: रात 10.30 बजे पटना पहुंची।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: एक घंटे तक सीट के नीचे छिपे रहे एसी के यात्री