DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कर्मचारी संगठनों का गुस्सा और भड़का

र्मचारी संगठनों में उबाल है। विभिन्न कर्मचारी संगठनों ने आत्मदाह की घटना के लिए अफसरों को जिम्मेदार ठहराते हुए उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। झारखंड राज्य कर्मचारी महासंघ के महासचिव कमल किशोर यादव, केंद्रीय प्रवक्ता आदिल जहीर, राज्य अध्यक्ष शैलेंद्र कुमार, नवल कुमार रजक, अयोध्या सिंह, अशोक चंद्रवंशी, केपी यादव, मृत्युजंय कुमार झा, इजहारूल हक राम विलास साह, ब्रमेश्वर मंडल, सिघेश्वर तिवारी, राम इकबाल सिंह ने कहा कि सरकार के खिलाफ जोरदार आंदोलन चलाया जायेगा। कर्मचारियों का आंदोलन बेकार नहीं जायेगा।ड्ढr झारखंड राज्य अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ के अजब लाल सिंह और महामंत्री अशोक कुमार सिंह ने कहा कि आत्मदाह के लिए जिम्मेवार प्रशासन के अधिकारियों के खिलाफ कठोरतम कार्रवाई होनी चाहिए। महासंघ के इजहारूल हक, कामेश्वर प्रसाद, रामजी सिंह, गिरिशनंदन कुमार, रामविलास पासवान, उमेश पांडेय, देवपति सिंह, अनिल वात्सायन, भीखू उरांव, गुप्तेश्वर सिंह, हरेंद्र सिंह, राजेश्वर सिंह, दुधेश्वर यादव, प्रेमचंद्र सिंह, नंदलाल, मुस्तफा आदि कर्मचारी नेताओं ने कर्मचारियों पर लाठी चार्ज की घटना की तीव्र निंदा की है। सचिवालय सेवा संघ के राजीव रंजन तिवारी ने भी इस घटना की निंदा करते हुए आठ मार्च को कार्य बहिष्कार आंदोलन में शामिल होने की घोषणा की है। उन्होंने कहा कि सरकार के उपेक्षापूर्ण रवैये के कारण ही कर्मचारियों को आत्मदाह के लिए बाध्य होना पड़ा। झारखंड राज्य अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ संयोजक नवीन चौधरी ने घटना के लिए पुलिस एवं वित्त सचिव को जिम्मेवार ठहराया है। उन्होंने कहा कि आत्मदाह के प्रयास को रोकने की बजाय एएसआइ कुलदीप पासवान ने सचिवालयकर्मियों पर लाठीचार्ज किया।ड्ढr झारखंड राज्य पेयजल एवं स्वच्छता विभाग कर्मचारी संघ के अध्यक्ष सोमर उरांव, उपाध्यक्ष हरिनाथ महतो ने सरकार के खिलाफ आंदोलन तेज करने की चेतावनी दी है। झारखंड पुलिस चतुर्थवर्गीय कर्मचारी संघ ने वित्त सचिव के खिलाफ हत्या के प्रयास का मामला दर्ज करने की मांग की है। संघ ने कहा है कि आत्मदाह के निर्णय से सरकार को अवगत कराया गया था, लेकिन इसे गंभीरता से नहीं लिया गया। संघ के महामंत्री शशि कुमार ने दस सूत्री मांगों के समर्थन में शीघ्र आंदोलन करने की बात कही है।ड्ढr अखिल झारखंड कर्मचारी महासंघ झालको ने सचिवालय कर्मचारियांे द्वारा आत्मदाह की घटना पर गहरी संवेदना व्यक्त की है। महासंघ के महासचिव घनश्याम रवानी ने इस घटना की उच्चस्तरीय जांच की मांग करते हुए कहा कि सरकार इसके लिए दोषी पदाधिकारियों पर दंडात्मक कार्रवाई करे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कर्मचारी संगठनों का गुस्सा और भड़का