अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सड़क की सफाई से राष्ट्रपति तक

राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन ने दिखा दिया कि रूस की गद्दी पर अभी भी उनका कब्जा है। वे ही रूस के निर्माता निर्देशक हैं। राष्ट्रपति चुनाव में उन्होंने अपने चेले दमित्री मेदवेदेव को जिता कर साबित कर दिया कि आठ साल पहले उन्होंने रूस को जिस लोकतांत्रिक और आर्थिक उदारवाद की आेर ले जाने की पहल की थी जनता ने उसे नकारा नहीं है। इसीलिए चुनाव में पुतिन का भी रिकार्ड तोड़ने वाले मेदवेदेव ने जीत के बाद कहा कि वे पुतिन की नीतियों को जारी रखेंगे। मेदवेदेव पुतिन की जकड़ से अपने को कितना मुक्त कर पाएंगे यह तो वक्त बताएगा, लेकिन अभी मेदवेदेव को पुतिन की शागिर्दी में ही रहना पड़ेगा। पुतिन ने साफ कर दिया है कि वे प्रधानमंत्री का पद स्वीकार कर सकते हैं। कुछ विशेषज्ञ तो यहां तक कह रहे हैं कि पुतिन प्रधानमंत्री की शक्ितयों को बढ़ाकर राष्ट्रपति पद को बौना करने की मुहिम भी चला सकते हैं। लेकिन मेदवेदेव राष्ट्रपति बनने के बाद क्या ऐसा होने देंगे? यह यक्ष प्रश्न बना रहेगा। 14 सितम्बर 1में सेंट पीटर्सबर्ग में जन्मे मेदवेदेव ने रूस के अरबपतियों को पुतिन प्रशासन के नजदीक लाने और रूसी अर्थव्यवस्था को नई दिशा देने में अहम भूमिका अदा की। इसलिए रूसियों को उनसे बहुत उम्मीदें हैं। मेदवेदेव बहुत ही साधारण परिवार से आते हैं। उनके पूर्वज पेट भरने के लिए खेत में मजदूरी औैर टोपियां बनाने का काम करते थे। गरीब परिवार के इस बच्चे के लिये जींस और अपने पसंदीदा गीतों के रिकार्डस खरीदना एक सपना होता था। रोमांटिक स्वभाव के मेदवेदेव बचपन से ही स्वेतलाना नाम की एक लड़की को पसंद करते थे, जिससे बाद में उनकी शादी हुई। उनके एक बेटा लिलया भी है। पढ़ाई में मेदवेदेव वैसे तो तेज थे लेकिन उनका मन कम ही लगता था। पढ़ाई के बजाय वे अपनी प्रेमिका स्वेतलाना से बतियाना ज्यादा पसंद करते थे। पढ़ाई का खर्चा उठाने के लिए उन्होंने सड़कों की सफाई का काम भी किया। उन्होंने 1में लेनिनग्राद स्टेट यूनिवर्सिटी से कानून की पढ़ाई की। 10 में उन्होंने प्राइवेट लॉ में पीएचडी की। बाद में उन्होंने इसी यूनिवर्सिटी में बतौर असिस्टेंट प्रोफेसरी की। सिविल लॉ पर किताब भी लिखी। 2000 में मेदवेदेव ने पुतिन के चुनाव अभियान की कमान संभाली। 2002 में वे गैस कंपनी परोम के अध्यक्ष बनाए गए। 2003 में क्रेमलिन के चीफ ऑफ स्टाफ के पद पर नियुक्त किया गया। 2005 में वे पुतिन के सबसे नजदीकी और विश्वासपात्र होने के नाते उनके प्रशासन में उन्हें उपप्रधानमंत्री पद की जिम्मेदारी मिली। मेदवेदेव संगीत के बड़े प्रेमी हैं। उन्हें डीप पर्पल, ब्लैक सेब्बाथ, पिंक फ्लायड और लेड जीप्लीन बैंडों का हार्ड रॉक पसंद हैं। उनके पास डीप पर्पल बैंड के सारे विनायल रिकाडरे का संग्रह है, जिसे उन्होंने अपनी जवानी के दिनों में संग्रहित किया था। उनकी पत्नी अपनी फैशनपरस्ती और शाहखर्ची के लिए जानी जाती हैं। मेदवेदेव की दिनचर्या बहुत व्यस्त है। बावजूद इसके वे पूरे दिन में एक घंटा अपनी तैराकी के लिये रिजर्व रखते हैं। वे प्रतिदिन शाम को लगभग 15000 मीटर तैरते हैं। जॉगिंग, योग और चेस खेलना भी उनकी दिनचर्या का हिस्सा है। ज्यादा वक्त मिलने पर वे अपने होम टाउन की फुटबाल टीम के मैचों को देखते हैं। मिखैल बुलगाकोव उनके पसंदीदा लेखक हैं। उनके दफ्तर में एक्वेरियम है। इसमे रहने वाली मछलियों की देखभाल करना भी वे नहीं भूलते हैं। वे रूसी नौजवानों में लोकप्रिय इंटरनेट स्लैंग डायलेक्ट को कतई नहीं पसंद करते हैं। बहुआयामी मेदवेदेव रूस को आने वाले समय में और कितने आयामों से लैस करेंगे इसका रूसी जनता को इंतजार है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अमेरिका के साथ उसकी पंगेबाजी जारी है और घरेलू स्तर पर विकास और आर्थिक मोर्चे पर उनको जूझना है। पुतिन के साथ उनकी जुगलबंदी भी कसौटी पर है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सड़क की सफाई से राष्ट्रपति तक