DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पेपर लीक में व्हाइट हाल स्कूल पर संदेह

पेपर आउट मामले में सीतापुर रोड स्थित व्हाइट हाल स्कूल संदेह के दायरे में आ गया है। शनिवार को बोर्ड की टीम ने स्कूल में परीक्षा से जुड़े दस्तावेज खँगाले। दो अप्रैल को वहाँ कम्प्यूटर का पेपर दो अलग-अलग स्कूलों से आया था। लिहाजा अधिकारियों ने दोनों स्कूलों से इस परीक्षा केन्द्र तक पहुँचने में लगने वाले समय की जाँच की। प्रश्नपत्र लाने वाले कर्मचारी को उसके घर से बुलवाकर पूछताछ की गई। इस कर्मचारी को तीन दिन तक शहर न छोड़ने की हिदायत दी गई है। इस बीच, एक कोचिंग संस्थान के पाँच शिक्षकों को कक्ष निरीक्षक बनाने की भी बात पता चली है।ड्ढr पेपर लीक मामले की जाँच के लिए अपर सचिव प्रशासन विनोद कृष्ण के नेतृत्व में आई जाँच टीम ने शनिवार सुबह पाँच बजे से अपना काम शुरू कर दिया। कई केन्द्रों की जाँच के बाद अफसरों का संदेह सीतापुर रोड स्थित व्हाइट हाल पर टिक गया है। अपर सचिव सहित बोर्ड के तीन उप सचिवों की टीम ने वहाँ काफी देर तक पूछताछ की। इस परीक्षा केन्द्र पर कम्प्यूटर का पर्चा फ्लोरेंस नाइटिंगल इण्टर कॉलेज तथा राजकीय हुसैनाबाद इण्टर कॉलेज से आया था। बोर्ड परीक्षा प्रभारी तथा उप शिक्षा निदेशक के.के. गुप्ता ने शनिवार को इन दोनों विद्यालयों से व्हाइट हाल की दूरी और वहाँ पहुँचने में लगने वाले समय की जाँच की। बताया जा रहा है कि फ्लोरेंस नाइटिंगल इण्टर कॉलेज पर्चा लेने गया कर्मचारी काफी देर बाद व्हाइट हाल पहुँचा था। इस दौरान पेपर उसी के पास था। यह कर्मचारी शनिवार को स्कूल नहीं आया था। कर्मचारी को उसके घर से बुलवाकर उससे सख्ती से पूछताछ की गई। उधर, बोर्ड के अधिकारियों को जाँच में यह भी पता चला है कि व्हाइट हॉल में एक कोचिंग संस्थान के पाँच शिक्षक कक्ष निरीक्षक के रूप में डय़ूटी कर रहे थे। तत्कालीन डीआईओएस गणेश कुमार ने इन शिक्षकों को पकड़ लिया था। पूछताछ में इन शिक्षकों ने बताया था कि वे डालीगंज में एक कोचिंग में पढ़ाते हैं और नकल कराने के लिए उन्हें वहाँ लगाया गया हैं। उन्हें डीआईओएस कार्यालय के एक निलम्बित कर्मचारी ने कक्ष निरीक्षक बनवाया था। सभी शिक्षक बीएससी और एमएससी पास बताए गए थे। गणेश कुमार ने इनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की बजाय कार्यमुक्त कर दिया था। बोर्ड की टीम फिलहाल राजधानी में दो दिन और रुकेगी। सोमवार की शाम तक वह अपनी रिपोर्ट शिक्षा निदेशक को सौंप सकती है। शनिवार की दोपहर अपर सचिव विनोद कृष्ण ने माध्यमिक शिक्षा निदेशक कृष्ण मोहन त्रिपाठी से मुलाकात कर उन्हें जाँच की प्रगति बताई। उप शिक्षा निदेशक के.के.गुप्ता ने बताया कि फिलहाल इस मामले के बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता। इण्टर कम्प्यूटर की परीक्षा अब सात अप्रैल कोड्ढr लखनऊ। इण्टर कम्प्यूटर प्रश्नपत्र की निरस्त हुई परीक्षा अब 12 अप्रैल की जगह सात अप्रैल को सुबह की पाली में राजकीय जुबिली इण्टर कॉलेज में होगी। यह जानकारी जिला विद्यालय निरीक्षक सांत्वना तिवारी ने दी। पेपर लीक होने से कम्प्यूटर प्रथम प्रश्नपत्र की परीक्षा दो अप्रैल को निरस्त कर दी गई थी। बोर्ड ने पहले इसे 10 अप्रैल को कराने का निर्देश दिया था, लेकिन तीन अप्रैल को इसे दो दिन बढ़ाकर 12 अप्रैल कर दिया गया। अब शनिवार को इसकी तारीख फिर बदलकर सात अप्रैल कर दी गई। बताया जा रहा है कि 12 अप्रैल को आईआईटी की परीक्षा की वजह सेतिथि बदली गई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पेपर लीक में व्हाइट हाल स्कूल पर संदेह