DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सदानों का मौन जुलूस कल

रांची नगर निगम के मेयर का पद आरक्षित करने के विरोध में मूलवासी सदान (गैर आदिवासी) मोरचा के तत्वावधान में 10 मार्च को मौन जुलूस निकाला जायेगा। जुलूस में शामिल लोग मुंह पर काली पट्टी बांधे रहेंगे।ड्ढr पूर्व ऊर्जा मंत्री और बहुजन सदान मोरचा के अध्यक्ष लालचंद महतो की अध्यक्षता में शनिवार को लालपुर में हुई बैठक मंे इस आशय का निर्णय लिया गया। अपने अधिकारों के लिए मूलवासी सदानों में एकजुटता न होने पर चिंता व्यक्त की गयी। उन्होंने कहा कि एकता की कमी का ही फायदा सरकार उठा रही है।ड्ढr बैठक के बाद पत्रकारों से बात करते हुए महतो ने बताया कि रांची रांची नगर निगम में मेयर का एकल पद है। इसे आरक्षित करना 74 प्रतिशत सदानों के साथ अन्याय है। राज्य सरकार ऐसा करके इस राज्य की एक बड़ी जनसंख्या का हक मारने का प्रयास कर रही है। मेयर सहित पार्षद के पद भी आरक्षित करने के विरोध में सदान वर्ग खड़ा होता तो आज आंदोलन करने की जरूरत नहीं पड़ती। उन्होंने बताया कि 10 मार्च को गैर आदिवासी दोपहर 2.30 बजे अपने मुंह पर काली पट्टी बांध कर इकट्ठा होंगे। वहां से तीन बजे एक साथ राजेंद्र चौक तक पैदल मार्च करेंगे।ड्ढr बहुजन सदान मोरचा के प्रवक्ता अब्दुल खालिक, वाणी मंडल, अरुण कश्यप, शिव श्ांकर मिश्र, संतोष कुमार सिन्हा, पीके आजाद, सज्जाद खान, ललन चौरसिया, कैशर कुरेशी, अधिवकता सुबोध कुमार, मीरा देवी सहित अन्य लोग इस अवसर पर मौजूद थे।ड्ढr सुप्रीम कोर्ट में देंगे चुनौतीड्ढr रांची नगर निगम के मेयर का पद आरक्षित करने के विरोध में बहुजन सदान मोरचा सुप्रीम कोर्ट में रिट दायर करेगा। मोरचा के अध्यक्ष लालचंद महतो ने बताया कि मोरचा ने झारखंड हाइकोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देने का फैसला किया है। सोमवार दस मार्च को रिट दायर कर दी जायेगी। विधानसभा का घेराव 17 कोड्ढr रांची। पूर्व ऊर्जा मंत्री लालचंद महतो ने बताय कि 17 मार्च को विधानसभा का घेराव किया जायेगा। मूलवासी सदान (गैर आदिवासी)मोरचा के बैनरतले लोग सुबह दस बजे राजेंद्र चौक पर इकट्ठा होंगे। वहां से बिरसा चौक तक जुलूस के रूप में जायेंगे। बिरसा चौक पहुंच प्रदर्शन किया जायेगा। रांची नगर निगम मेयर का पद आरक्षित करने के विरोध में यह कार्यक्रम आयोजित किया जायेगा।ड्ढr रांची बंद की होगी घोषणाड्ढr रांची। पूर्व ऊर्जा मंत्री लालचंद महतो ने कहा कि झारखंड की यूपीए सरकार मूलवासी और सदान विरोधी है। रांची नगर निगम मेयर का एकल पद है। इसे आरक्षित कर सदानों को उनके संवैधानिक अधिकारों से वंचित कर दिया गया है। इसके विरोध में 17 मार्च के बाद रांची बंद की घोषणा की जायेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सदानों का मौन जुलूस कल