DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हम मांगें क्यों, मजबूत होंगे तो देना ही होगा

हम मांगेंगे क्यों। हम इतने मजबूत होंगे कि हमें देना ही होगा। बच्चियों को पढ़ा-लिखाकर इतना योग्य बना देंगे तो दहेज देने की जरूरत ही नहीं होगी। महिलाएं सशक्त तो हो रही हैं पर ग्रामीण क्षेत्रों में अभी विषमताएं हैं। दहेज के लिए महिलाएं जलायी जा रही हैं। गर्भ में ही कन्या की हत्या हो रही है। घर में भी उनके साथ अत्याचार की घटनाएं रोज-ब-रोज घट रही हैं। महिलाओं को और अपने खिलाफ अत्याचार की घटनाओं के खिलाफ आवाज बुलंद करनी होगी।ड्ढr ड्ढr बिहार राज्य समाज कल्याण बोर्ड द्वारा महिला दिवस पर कालिदास रंगालय में घरेलू हिंसा,कन्या भ्रूण हत्या कानून विषयक संगोष्ठी में वक्ताओं ने उक्त विचार रखे। उद्घाटन विधायक रेणु देवी व बाल श्रमिक आयोग के अध्यक्ष रामदेव प्रसाद ने संयुक्त रूप से किया। उन्होंने इस मौके पर कन्याभ्रूण ,दहेज से संबंधित पोस्टरों का लोकार्पण भी किया। समारोह में परिहार सेवा संस्थान, आरती कल्याण संस्थान आदि से जुड़ी महिलाओं ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। बाद में बेउर जेल में बोर्ड व प्रयास भारती ट्रस्ट द्वारा संचालित परिवार परामर्श केन्द्र में महिला कैदियों के बीच भी महिला दिवस मनाया गया। बोर्ड के सचिव एके राय ने बताया कि पहली अप्रैल से महिलाओं को जागरूक करने के लिए महिला जागरूकता शिविर, हर जिले में अल्पवास गृह, एक-एक और परिवार परामर्श केन्द्र व कई व्यावसायिक पाठय़क्रम शुरू किए जाएंगे। गोष्ठी में सामाजिक कार्यकर्ता आशा सिंह, किरण शर्मा, दिव्या,क्रिस्टोफर, प्रमोद कुमार सिंह आदि ने भी अपने विचार रखे। संचालन बचपन बचाओ आंदोलन के अजय कुमार सिंह ने किया। मानवाधिकार संरक्षण प्रतिष्ठान द्वारा आयोजित महिला सशक्तीकरण दशा व दिशा विषयक संगोष्ठी में पूर्व मुख्यमंत्री डा. जगन्नाथ मिश्र ने कहा कि जबतक महिलाओं के खिलाफ अत्याचार की घटनाओं का अंत व भेदभावपूर्ण व्यवहार खत्म नहीं होता है तबतक स्वस्थ समाज का निर्माण संभव नहीं है। अर्थशास्त्री एनके चौधरी ने कहा कि लिंग आधारित बजट बने व पारदर्शिता से लागू हो तो तस्वीर बदल सकती है। गोष्ठी में बीडी राम, बच्चा ठाकुर,वसुंधरा आर्याणी,अप्सरा, डा.आईए खान, रामजी चौबे, श्याम बिहारी मिश्र आदि ने भी अपने विचार रखे।ड्ढr ड्ढr उधर राष्ट्रीय महिला ब्रिगेड ,बिहार द्वारा आर ब्लॉक चौराहा के पास महिला अदालत लगायी गयी। ब्रिगेड की राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिता सिन्हा ने कहा कि महाराष्ट्र में बिहारियों पर हमले के खिलाफ ब्रिगेड की हजारों महिलाएं महाराष्ट्र कूच करेंगी। उन्होंने महाराष्ट्र सरकार को तुरंत बर्खास्त करने व बाल ठाकरे व राज ठाकरे पर देशद्रोह का मुकदमा करने की मांग की। दिलीप कुमार सिन्हा ने महिला आरक्षण बिल को संसद से पारित कराने की मांग की। इसके पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुषमा सिन्हा,ममता देवी,पुष्पा पांडेय,नीलम कुमारी के नेतृत्तव में बाल ठाकरे व राज ठाकरे को फांसी देने की मांग पर आक्रोश मार्च निकाला गया। मार्च में शामिल महिलाएं छठी मइया का अपमान नहीं सहेंगे का नारा भी बुलंद कर रही थीं।ड्ढr ड्ढr समाज को बदलने में छात्राआें को निभानी होगी सक्रिय भूमिकाड्ढr पटना (हि.प्र.)। छात्राआें को समाज बदलने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करनी होगी। राज्यपाल आरएस गवई ने पटना वीमेंस कॉलेज में अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर आयोजित महिला सशक्ितकरण पर आयोजित सेमिनार को संबोधित करते हुए कहा कि महिलाआें के लिए कुछ भी असंभव नहीं है। अगर छात्राएं अपने आसपास की महिलाआें को उनकी शक्ित के बारे में बताएं तो समाज बदल जाएगा। उन्हांेने कहा कि देश में महिलाआें ने अपने पति की रक्षा के लिए कई कारनामे किए यह उनकी इच्छाशक्ित का ही परिणाम है। कुछ इसी तरह के कार्य पुरुषों को भी करना चाहिए। संसद व विधानसभा में महिलाआें के 33 फीसदी आरक्षण की मांग की जा रही है उन्हें तो 50 फीसदी आरक्षण की मांग करनी चाहिए। इस मौके पर पद्मश्री सुधा वर्गीस ने कहा कि राज्य में महिलाआें को तो पंचायतों में 50 फीसदी आरक्षण दे दिया गया लेकिन मुखियापति, सरपंचपति काफी सक्रिय हैं। समाज में महिलाआंे को अभी और ऊपर उठाने की जरूरत है। पटना उच्च न्यायालय की न्यायाधीश मृदुला मिश्र ने कहा कि महिलाआें को कानून ने भी कई सहूलियतें दी है। उनका सही इस्तेमाल करने के लिए इसके बारे में शिक्षित करने की जरूरत है। राजनीति विज्ञान की विभागाध्यक्ष डा. निधि सिन्हा ने कहा आज जिस तरह की स्थिति महिलाआें की है, उसमें सुधार के लिए विस्तृत कार्यक्रम बनाने की जरूरत है। कार्यक्रम में पूर्व शिक्षा सचिव एमएम झा की पत्नी निशा झा ने स्व. झा के नाम पर बीएड की टॉपर छात्रा को एक ट्रॉफी व 2500 रुपये के पुरस्कार देने की घोषणा की। इसमें डा. शेफाली राय ने भी विचार व्यक्त किए। अतिथियांे का स्वागत प्राचार्य सिस्टर डॉरिस डीसूजा और धन्यवाद ज्ञापन प्रीमियर रागिनी झा ने किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: हम मांगें क्यों, मजबूत होंगे तो देना ही होगा