DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नकल माफिया बनवा रहे हैं कक्ष निरीक्षक

यूपी बोर्ड परीक्षाआें में नकल माफिया ही कक्ष निरीक्षकों की तैनाती भी करा रहे हैं। यह खेल खुद जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय से किया जा रहा है। इसमें ऐसी जुगत भिड़ाई जा रही है कि स्कूल प्रबंधक आसानी से किसी को भी कक्ष निरीक्षक बनाकर डय़ूटी करवा सकें। जिला विद्यालय निरीक्षक अपने हस्ताक्षर किए बिना कक्ष निरीक्षकों की सूची कॉलेजों को भेज रहे हैं। उनमें कई कक्ष निरीक्षकों के तो परिचय पत्र कोड भी नहीं दिए गए हैं।ड्ढr यूपी बोर्ड परीक्षाआें में शिक्षा माफिया के इशारे पर केन्द्र व्यवस्थापक बनाने का मामला पहले ही सामने आ चुका है। अब कक्ष निरीक्षकों की तैनाती में भी बड़ा खेल उजागर हुआ है। हर साल जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय से कक्ष निरीक्षकों की जो सूची केन्द्र व्यवस्थापकों को भेजी जाती थी, उसमें जिला विद्यालय निरीक्षक के हस्ताक्षर होते थे। इस बार जो सूची भेजी जा रही है, उनमें जिला विद्यालय निरीक्षक के हस्ताक्षर नहीं हैं। कॉलेज को जो सूची भेजी जाती है उसमें एक ‘कवरिंग लेटर’ भेजा जा रहा है। उस पर जिला विद्यालय निरीक्षक गणेश कुमार के हस्ताक्षर हैं। हर बार की तरह इस बार परिचय पत्र भी जारी किए गए हैं। इस सूची में कई शिक्षकों के नामों के आगे उनके परिचय पत्रों का कोड भी नहीं दिया गया है। इसका फायदा सीधे नकल माफिया उठा रहा है। इसमें कोई भी नाम बदलकर कक्ष निरीक्षक बन सकता है।ड्ढr बने फर्जी परिचय पत्र:पृष्ठ 2

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नकल माफिया बनवा रहे हैं कक्ष निरीक्षक