अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सुसाइड नोट ने किए कई खुलासे

ॉलेज शिक्षक पुत्र फोटोग्राफर बंधुओं रमण और अमन के आत्महत्या की गुत्थी धीरे-धीरे परत दर परत सुलझने लगी है। मामले में अनुसंधान ने अचानक उस समय नाटकीय मोड़ ले लिया जब रविवार की सुबह घटनास्थल पर पुलिस को ‘सुसाइड नोट’ मिला। चार पृष्ठों का नोट पढ़ने के बाद पुलिस अधिकारियों को सहसा किसी को यकीन नहीं हुआ लेकिन मौत से पहले लिखित दर्दनाक कहानी तो बतौर साक्ष्य सामने थी।ड्ढr ड्ढr फोटोग्राफर बंधुओं ने सुसाइड नोट में अपनी खुदकुशी के लिए समस्तीपुर कॉलेज में अर्थशास्त्र के शिक्षक अपने पिता रामनरेश ठाकुर के अलावा मां, ससुर व विक्रम थाने में तैनात सब इंस्पेक्टर अभय तिवारी, पत्नी व अन्य परिजनों को दोषी बताया है। पिता पर रमण की पत्नी के साथ अवैध रिश्ते कायम करने के साथ ही दोनों भाइयों को घर से बाहर निकाल कर साजिश रचने के आरोप लगाये हैं। साथ ही लाश को परिजनों को नहीं दिखाने और पुलिस द्वारा ही दाह-संस्कार किये जाने का अनुरोध किया गया है। दोनों भाइयों में बड़ा रमण शादीशुदा जबकि अमन अविवाहित था। नोट में ससुर व एस.आई. अभय तिवारी पर प्रताड़ित करने के साथ ही छह महीना पहले पत्नी को जबरन ले जाने का आरोप लगाया गया है। दोनों भाइयों ने लिखा है कि वे मुश्किल से स्टूडियो चला कर गुजर-बसर कर रहे थे। ससुर पत्नी को ले गया जबकि पिता ने दहेज के पैसे व सामान हड़प लिये। दुकान का पैसा भी लेकर चले गये। स्टूडियो के मकान मालिक के पास दोनों भाइयों के 23 हजार रुपए जमा हैं जिन्हें अनाथालय में दान देने को कहा गया है।ड्ढr ड्ढr वहीं तलाशी के दौरान मौके से पुलिस ने 37 सौ नकद बरामद किये हैं। दूसरी तरफ आरोपित पिता व कॉलेज शिक्षक रामनरेश ठाकुर ने पुलिस के समक्ष सफाई दी कि बेटा ही उन लोगों के साथ मारपीट करता था। पत्नी को घर से उसने खुद ही निकाला था। कंकड़बाग थानाध्यक्ष रमाकांत प्रसाद ने बताया कि फिलहाल धारा 306 के तहत आत्महत्या के लिए उत्प्रेरित करने के आरोप में मृतक भाइयों के मां-बाप, ससुर, पत्नी आदि को भी आरोपित किया गया है। ज्ञात हो कि बीते शनिवार की देर रात कंकड़बाग थानांतर्गत चांदमारी रोड इलाके में किराये के कमरे के गेट को तोड़ कर पुलिस ने दोनों भाइयों की लाशें बरामद की थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सुसाइड नोट ने किए कई खुलासे