अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एमपी-एमएलए से पैरवी न करायें : वीएम वर्मा

राज्य बिजली बोर्ड के अध्यक्ष वीएम वर्मा ने कहा कि अभियंता एमपी-एमएलए से पैरवी नहीं करायें। इससे कायरे के निष्पादन में परेशानी होती है। वर्मा रविवार को इंजीनियर्स भवन डोरंडा में आयोजित विद्युत कनीय अभियंता संघ के पांचवें अधिवेशन को संबोधित कर रहे थे।ड्ढr वर्मा ने कहा कि केंद्र और कोर्ट की टिप्पणियों से बिजली बोर्ड की छवि खराब हुई है। इस कारण बोर्ड के नियम-कानून भी बदल दिये गये। अभियंता और कर्मचारी बोर्ड की सबसे बड़ी संपत्ति हैं। उनके लिए इंजीनियर और लेखा विभाग के कर्मी दो हाथ की तरह हैं। अभियंताआें को उन्होंने आश्वस्त किया कि 20 प्रतिशत पदस्थापन मेरिट के आधार पर किया जायेगा। आम जनता को बिजली बोर्ड से काफी उम्मीद है। साथ ही राजस्व वसूली बढ़ाना भी समय की मांग है। जेएसइबी के सदस्य वितरण एसएन चौधरी, सदस्य तकनीकी जीएनएस मुंडा ने भी अपने विचार रखे। जेएसइबी सचिव आरपी सिंह और संयुक्त सचिव-दो अमरनाथ मिश्रा, ऑल इंडिया पावर डिप्लोमा इंजीनियर्स फेडरेशन के ज्ञानेंद्र सिंह, सहित राज्य भर से आये संघ के सदस्य इस अवसर पर मौजूद थे। जेएसइबी अध्यक्ष श्री वर्मा ने संघ की स्मारिका का विमोचन भी किया।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: एमपी-एमएलए से पैरवी न करायें : वीएम वर्मा