DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एजी की रिपोर्ट खुलते ही हो सकता है बवंडररांची (सं)।

सरकारी कामकाज पर एजी की तैयार रिपोर्ट से राज्य में बवंडर खड़ा हो सकता है। कई मुद्दों पर अधिकारी से लेकर विपक्ष और सत्ता पक्ष के लोगों की परेशानी अचानक बढ़ जाने की अटकलें लगायी जा रही हैं। सरकार फिलहाल विधानसभा में कैग (सीएजी) रिपोर्ट पेश करने से बचना चाह रही है। एजी की ओर से पहले ही वर्ष 2006-07 की रिपोर्ट राजभवन एवं सरकार को मिल चुकी है। सरकार पर एक तिथि तय कर सदन में इसे पेश करने का संवैधानिक दायित्व है। कार्यक्रम के आधार पर अब तक कैग रिपोर्ट सदन में पेश हो जानी थी। रिपोर्ट में ऐसे कई मामले हैं, जिनसे सरकार में बैठे लोगों को आशंका है कि बजट सत्र के इस प्राइम टाइम में विधानसभा में नया हंगामा खड़ा हो सकता है। इस बार की रिपोर्ट में एजी ने कई गंभीर मुद्दों को जड़ से पकड़ा है और तथ्यों को उजागर किया है। सुवर्णरेखा बहुद्देश्यीय परियोजना के काले कारनामों पर विशेष प्रतिवेदन तैयार हुआ है। बेतहाशा धन खर्च करने के बाद भी परियोजना लक्ष्य से काफी पीछे क्यों है, इसका विशेष उल्लेख किया गया है। एक साल में उत्पाद कर में 140 करोड़ की गिरावट, वाणिज्य करों को छोड़ दिये जाने तथा राजस्व उगाही की कमियों से जुड़े कारणों पर रिपोर्ट तैयार हुई है। उत्पाद विभाग की नीतियों एवं अफसरों की कारगुजारियों से हो रहे नुकसान और विभागों द्वारा राशि को खर्च करने के नाम पर उसे बैंकों में रखे जाने के मामलों पर भी एजी ने विशेष गौर फरमाया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: एजी की रिपोर्ट खुलते ही हो सकता है बवंडररांची (सं)।