DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बराक अच्छी, पर अटकी आपूर्ति : मेहता

इजरायल से बराक मिसाइलों की खरीद में दलाली के विवादों के बीच नौसेनाध्यक्ष एडमिरल सुरीश मेहता ने कहा है कि नौसेना बराक मिसाइलों के प्रदर्शन से काफी संतुष्ट है। नौसेना को ऐसी और मिसाइलें चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि नई खेप की खरीद फिलहाल रुकी हुई है। उनका इशारा इस मिसाइल की खरीद में दी गई कथित दलाली पर चल रही कार्रवाई की ओर था। मेहता ने कहा कि नौसेना के पास पर्याप्त बराक मिसाइलें हैं। मिसाइलों की खरीद की एक निश्चित प्रक्रिया है और जरूरत के मुताबिक इसके तहत और भी खरीदी जा सकती हैं। मेहता यहां नौसेना की एक अभियान टीम को उत्तरी ध्रुव रवाना करने के लिए आयोजित समारोह के बाद बातचीत कर रहे थे। लेकिन सूत्रों का कहना है कि जहां दलाली लेने के खिलाफ कार्रवाई हो रही है, वहां दलाली देने वाली इजरायली कंपनी इजरायल एयरक्राफ्ट इंडस्ट्रीज के खिलाफ कार्रवाई पर भी विचार हो सकता है। हालांकि कई विशेषज्ञ इस बात से इसलिए सहमत नहीं हैं, क्योंकि यह कंपनी कई अन्य परियोजनाओं पर भी भारत के लिए काम कर रही है। उल्लेखनीय है कि मिसाइल खरीद से संबंधित इस विवाद में पूर्व नौसेनाध्यक्ष एडमिरल सरदारी लाल मथरादास नंदा के पुत्र सुरेश नंदा और पौत्र संजीव नंदा को सीबीआई ने गिरफ्तार किया है। पूर्व नौसेनाध्यक्ष एडमिरल सुशील कुमार से पूछताछ हो चुकी है और पूर्व रक्षामंत्री से भी सीबीआई द्वारा पूछताछ किए जाने की संभावना है। सूत्रों के मुताबिक, नौसेना के आला अधिकारी इस विवाद में पूर्व नौसेनाध्यक्ष सुशील कुमार को घसीटे जाने से नाराज हैं। नौसेना के जंगी पोतों में बराक मिसाइलें तैनात की जा चुकी हैं और इसके 13 में से 12 परीक्षण पूरी तरह सफल रहे। यहां तक कि प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह के समक्ष भी 2006 में इस मिसाइल की अचूक क्षमता का प्रदर्शन किया जा चुका है। भारत अब इजरायल के साथ बराक-2 मिसाइलों के संयुक्त निर्माण की परियोजना पर काम कर रहा है, जिसकी मारक क्षमता 60 किलोमीटर से ज्यादा होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बराक अच्छी, पर अटकी आपूर्ति : मेहता