अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पलामू में भी शुरू हुई पोस्ते की खेती

पलामू के चैनपुर प्रखंड के परसाखांड़ गांव के बरवाखांड़ तथा रहिमाखांड़ टोले में प्रतिबंधित पोस्ते की फसल लहलहा रही है। खेती करनेवाले बाहर के लोग हैं। इन लोगों ने अनुसूचित जाति और जनजाति के लोगों की जमीन पट्टे पर ले रखा है। लगभग दो एकड़ जमीन में पोस्ते की खेती की गयी है। ग्रामीणों का कहना है कि उन्हें इस पौधे के बारे में कुछ भी पता नहीं है। खेती करनेवाले ने बताया कि यह तेलहन का पौधा है। जानकारी के अनुसार चांदो महावत मोरिया रोड में परसाखांड़ गांव के रहिमाखांड़ टोले के गोला भुइयां एवं बरवाखांड़ टोले के शोभी परहिया की जमीन पोस्ते की खेती की गयी है। उनकी जमीन लगभग तीन माह पहले पट्टे पर ली गयी थी। ग्रामीणों ने बताया कि गोला और शोभी को पौधे तैयार होने के बाद दो-तीन हजार रुपये देने की बात कही गयी थी, परंतु अबतक इन्हें पैसा भी नहीं मिला है। ऐसे खेती इस क्षेत्र में पहली बार की गयी है। इसलिए इसकी पहचान ग्रामीणों को नहीं है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पलामू में भी शुरू हुई पोस्ते की खेती