अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मेरठ : रोजाना सैकड़ों पशु कटते हैं यहां

मेरठ के नगर निगम की एक पशु वधशाला में रोज 350 भैंसें काटी जाती हैं और सरकार का कहना है कि मांस खाने वालों की आबादी के मद्देनजर मेरठ में 350 जानवरों के मांस की रोज खपत है। भाजपा के सत्य प्रकाश अग्रवाल ने सरकार से यह पूछा था कि मेरठ नगर निगम की हापुड़ रोड स्थित वधशाला में कितने और कौन से जानवर कटते हैं? इस सवाल के जवाब में नगर विकास मंत्री नकुल दुबे ने बताया कि रोज 350 भैंसें कटती हैं लेकिन भेड़ और बकरे यहां नहीं काटे जाते। सरकार ने यह मानने से इंकार किया कि वधशाला में खपत से ज्यादा पशुआें को काटा जाता है। यहां यह उल्लेखनीय है कि 350 भैंस केवल नगर निगम की एक वधशाला में रोज काटी जाती हैं। मेरठ में भारी संख्या में निजी वधशाला भी हैं जिनमें पशु काटे जाते हैं। जाहिर है कि मेरठ में कई हजार पशुआें का रोज वध होता है और इसका बड़ा हिस्सा एक्सपोर्ट होता है। दिल्ली के नजदीक होने के कारण भी मेरठ को एक बड़े मांस निर्यातक का दर्जा हासिल है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मेरठ : रोजाना सैकड़ों पशु कटते हैं यहां