DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आरक्षण के लिए ५०फीसदी की सीमा खत्म हो

लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने कहा कि आरक्षण के लिए निर्धारित 50 प्रतिशत की सीमा को समाप्त कर सभी 10अति पिछड़ी जातियों को अनुसूचित जातिजनजाति से जोड़ देना चाहिए। इसके अलावा लोकसभा और विधानसभा की सीटों में भी कुछ इन जातियों के लिए आरक्षित करनी चाहिए। अति पिछड़ी जातियां ही आरक्षण के असली हकदार हैं।ड्ढr ड्ढr श्री पासवान मंगलवार को यहां जुब्बा सहनी के शहादत दिवस पर आयोजित पार्टी के अति पिछड़ा प्रकोष्ठ सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने निजी क्षेत्र में आरक्षण के अलावा अखिल भारतीय न्यायिक सेवा के गठन की भी वकालत की। उन्होंने कहा कि अभी की आरक्षण व्यवस्था में न तो पसमांदा मुसलमानों के लिए कोई व्यवस्था है और न ही गरीब सवर्णों के लिए। इससे उन समाज के लोगों को न्याय नहीं मिल पाता।श्री पासवान ने कहा हर व्यक्ित को उस सदन में अपना प्रतिनिधि भेजने का अधिकार है जहां नियम- कानून बनते हैं। अति पिछड़ी जातियों की एक जगह इतनी संख्या नहीं है कि वे किसी भी क्षेत्र से अपना प्रतिनिधि चुनकर संसद या विधान सभा में भेज सकें। इसलिए सीटों को आरक्षित करना उस समाज के हित में होगा। तभी वे अपने अधिकारों की रक्षा के लिए कानून बना सकेंगे। लेकिन उनकी इस सामाजिक मांग को तभी ताकत मिलेगी जब समाज का यह तबका एकजुट होकर क्रांति के लिए तैयार होगा।ड्ढr ड्ढr उन्होंने कहा कि बिहार सरकार अगर महादलितों के लिए कुछ करना चाहती है तो सफाई कर्मी आयोग और मुसहर सेवा आयोग का गठन करे। वे जाति-धर्म की लड़ाई नहीं वरन् एक वसूल की लड़ाई लड़ रहे हैं ,इसके लिए सबका सहयोग जरूरी है। बड़ी जातियां अगर दूसरी जातियों की लड़ाई नहीं लड़ेगी तो जातिवाद को समाप्त नहीं किया जा सकेगा। सत्ता ऊंची जाति से पिछड़ी जाति के हाथों में आ गई है अगर ये लोग भी अतिपिछड़ी और दलितों की आेर नहीं देखेंगे तो फिर ये जातियां अपना हाथ ऊंची जातियों की आेर बढ़ा देंगी। इसके पूर्व समारोह को संबोधित करते हुए पूर्व सांसद रंजन प्रसाद यादव ने कहा कि लालू प्रसाद ने 15 वर्षों के शासन काल में इन सभी जातियों की अलग-अलग रैली कराकर बांटने का प्रयास किया लेकिन रामविलास पासवान ने पहली बार 2005 में अतिपिछड़ी जातियों को गोलबंद करने का काम किया। सभा का उद्घाटन दीप जलाकर पार्टी के प्रदेश संयोजक पशुपति कुमार पारस ने किया तो अध्यक्षता अतिपिछड़ा प्रकोष्ठ के अध्यक्ष बच्चू प्रसाद बीरू ने की। संबोधित करने वालों में पूर्व केन्द्रीय मंत्री डा. संजय पासवान, पार्टी के राष्ट्रीय महामंत्री डा. सत्यानंद शर्मा, पूर्व अध्यक्ष गुलाम रसूल बलियावी,दलित सेना के प्रदेश अध्यक्ष पुनीत राय, प्रवक्ता विष्णु पासवान के अलावा विनोद कुमार निषाद, बालदेव महतो और त्रिवेदी पाल आदि शामिल थे। युवा लोजपा के प्रदेश अध्यक्ष प्रो. शील कुमार राय के अलावा अनंत गुप्ता आदि भी उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: आरक्षण के लिए ५०फीसदी की सीमा खत्म हो