DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नक्सली राम भगवान मसौढ़ी से गिरफ्तार

नरसंहार समेत दर्जन भर नक्सली और आपराधिक कांडों का फरार अभियुक्त राम भगवान राम को भगवानगंज पुलिस ने देवरिया गांव से गिरफ्तार कर मंगलवार को जेल भेज दिया। छापेमारी का नेतृत्व थानाध्यक्ष मो. अकरम ने सैप जवानों के सहयोग से किया। थानाध्यक्ष ने बताया कि गिरफ्तार अपराधी के पूर्व में नक्सली संगठन से अच्छे संबंध थे। वैचारिक मतभेद के बाद वह कुख्यात जयनन्दन यादव गिरोह में शामिल होकर मसौढ़ी, धनरुआ, भगवानगंज, दुल्हिनबाजार, पुनपुन थाना क्षेत्रों में हिंसक वारदातों को अंजाम देता रहा। भगवानगंज थाने के देवरिया गांव निवासी चन्द्रशेखर प्रसाद के पुत्र राम भगवान राम ने वर्ष 2001 में अपराध की दुनिया में कदम रखने के बाद धनरुआ के दतमई नरसंहार (6 हत्या), मसौढ़ी और दुल्हिनबाजार के ईंट भट्ठा पर अलग-अलग काण्डों में मजदूरों की हत्या समेत अन्य घटनाआें क ो अंजाम दिया। सात वर्ष से अधिक समय बीत गया लेकिन वह पुलिस की गिरफ्त में पहले नहीं आया। माले ने दावा किया राम भगवान पार्टी का सक्रि य सदस्य है। हल्ला बोल रैली को प्रभावित करने के लिए पुलिस छापामारी कर आतंक पैदा करना चाहती है।ड्ढr ड्ढr दहेज की खातिर पत्नी समेत 3 बच्चों की हत्याड्ढr औरंगाबाद (ए.सं.)। मुफस्सिल थाना क्षेत्र के ग्राम चमरडीहा में दहेज की खातिर एक व्यक्ित द्वारा अपनी पत्नी एवं तीन बच्चों की हत्या गला घोंटकर कर दी गई। इस मामले में मृतका के पिता के द्वारा मंगलवार को एक प्राथमिकी संबंधित थाने में दर्ज कराई गई है। इस संबंध में पुलिस उपाधीक्षक अंजनी कुमार सिन्हा ने बताया कि मृतकों में बबीता कुमारी उर्फ सलवरी (30 वर्ष) एवं उसके बच्चे अभिमन्यु कुमार (5 वर्ष), अविनाश (3 वर्ष) तथा प्रीति (1 वर्ष) शामिल हैं। इस सूचना पर घटना स्थल का जायजा लेने पहुंचे मुफस्सिल थानाध्यक्ष अनिल कुमार शर्मा ने बताया कि स्थानीय निवासी बिपिनसिंह एवं उनके परिवार वालों द्वारा बबीता को हमेशा प्रताड़ित किया जाता था तथा मकान बनाने के लिए पैसे की मांग की जाती थी। पूछताछ केदौरान पुलिस को इस बात का पता चला कि बिपीन एवं उसकी पत्नी बबीता के बीच नोंकझोक हुई थी तथा इसी बीच बात काफी बढ़ गई। इसी दौरान बिपिन एवं उसके परिवार के अन्य सदस्यों द्वारा बबीता कीहत्या गला घोंटकर कर दी गई। साथ ही अपने तीन बच्चों को भी मौत के घाट उतार दिया। इस वारदात को अंजाम देने के बाद अभियुक्तों द्वारा साक्ष्य छुपाने के उद्देश्य से चारों शवों का अंतिम संस्कार गांव में ही कर दिया गया। इस निर्मम हत्या की सूचना ग्रामीणों द्वारा बबीता के मैके वालों को दी गई जिसके आधार पर मृतका के परिजन मंगलवार को पुलिस के समक्ष पहुंचे तथा कार्रवाई की मांग की। पुलिस के अनुसार बिपीन के साथ-साथ तीन अन्य लोगों को भी अभियुक्त बनाया गया है। वे सभी फरार बताए जा रहे हैं। थाणे में दो बांग्लादेशी आतंकी मुठभेड़ में ढेरड्ढr मुम्बई (वार्ता)। महाराष्ट्र के थाणे जिले के कश्मीरा क्षेत्र में दो संदिग्ध बांग्लादेशी आतंकवादी मंगलवार की रात पुलिस के आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) के साथ मुठभेड़ में मारे गए। एटीएस सूत्रों ने बताया कि दस्ते को दो संदिग्ध बांग्लादेशी आतंकवादियों के मीरा भयंदर रोड पर स्थित एक फ्लैट में रुकने के बारे में गुप्त सूचना मिली थी। सूचना के आधार पर पुलिस दल ने रात करीब सवा नौ बजे के लगभग में उक्त इमारत को घेर लिया। एटीएस ने आतंकवादियों से आत्मसमर्पण करने का कहा लेकिन उन्होंने पुलिस दल पर गोलीबारी शुरू कर दी। पुलिय द्वारा की गई जवाबी कार्रवाई में दोनों आतंकवादी घायल हो गए। दोनों को अस्पताल ले जाया गया लेकिन वहां पहुंचने से पहले ही दोनों ने रास्ते में ही दम तोड़ दिया। पुलिस ने फ्लैट से हथियार और गोली बारूद बरामद किए हैं। वाई अड्डा कर्मियों की हड़ताल शुरूड्ढr पटनानई दिल्ली (हि.प्र.ब्यूरो)। दिल्ली में ऑल इंडिया एयरपोर्ट अथॉरिटी इम्प्लाइज यूनियन तथा नगर उड्डयन मंत्री के बीच वार्ता विफल हो जाने से राजधानी समेत देश के सभी हवाई अड्डों पर मंगलवार की आधी रात से कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए। पटना में भी बुधवार को लगभग 125 कर्मचारी अपनी मांगों को लेकर धरना-प्रदर्शन तथा आम सभा करेंगे। कर्मी इस दौरान मौजूद तो रहेंगे पर काम नहीं करेंगे। वहीं सरकार ने कड़ा रुख अपनाते हुए दिल्ली में न केवलएस्मा लागू कर दिया है बल्कि 21 हवाई अड्डों पर वायुसेना के 47लोगों को भी तैनात कर दिया है। हवाई अड्डा कर्मचारियों की मंगलवार रात से शुरू होने वाली हड़ताल के मद्देनजर यात्रियों को परेशानी उठानी पड़ सकती है जबकि नागरिक उड्डयन मंत्रालय और हवाई अड्डा प्राधिकरण ने दावा किया है कि हड़ताल से निपटने के लिए आपात योजना तैयार कर ली गई है। यूनियन के स्थानीय सचिव अजीत कुमार ने बताया कि यूनियन के अध्यक्ष सांतानाथ ,महासचिव एन.के. घोषाल तथा उड्डयन मंत्री प्रफुल्ल पटेल के बीच वार्ता विफल हो गई। इसी वजह से यूनियन ने हड़ताल पर जाने का फैसला लिया है। कर्मियों के हड़ताल पर चले जाने से पटना में भी विमानों के परिचालन पर असर पड़ने की संभावना है। वैसे एयरपोर्ट के आधिकारिक सूत्रों के अनुसार पटना में हवाई अड्डा पर विमानों का परिचालन प्रभावित नहीं होने दिया जाएगा। इसके लिए स्टेट फायर कर्मियों तथा दानापुर स्थित एयरफोर्स फायर सेक्शन को तैयार रहने के लिए कह दिया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: एक नजर