अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उत्तेजित नेता सदन को सभापति ने दी हिदायत

विधानपरिषद में बुधवार को सभापति चौधरी सुखराम सिंह ने नेता सदन स्वामी प्रसाद मौर्य को हिदायत दी कि वे उत्तेजना में न आएँ क्योंकि उनके उत्तेजना में आने से सदन में उत्तेजना और बढ़ेगी। सत्ता पक्ष को हमेशा दबना चाहिए। उन्होंने नेता सदन की उस टिप्पणी पर भी आपत्ति जताई जिसमें उन्होंने कहा था कि अनुशासन तय होना चाहिए। विपक्षी सदस्य लामबंद होकर सदन का माखौल उड़ाते हैं। पीठ द्वारा उन्हें बिठाया नहीं जाता। सभापति ने कहा कि नेता सदन का ऐसा कहना उचित नहीं है। नियमों के मुताबिक निष्पक्ष तरीके से सदन का संचालन किया जाता है। दरअसल शून्य प्रहर में रालोद व कांग्रेस सदस्यों द्वारा कुशीनगर में किसान रैली में लाठीचार्ज का मामला उठाने के दौरान सरकार विरोधी नारेबाजी व शोर-शराबे में नेता सदन ने उत्तेजित होकर कहा था कि सदन में अनुशासन सिर्फ सत्ता पक्ष की जिम्मेदारी नहीं। यह धमकी नहीं लेकिन विपक्ष ऐसा करेगा तो सत्तापक्ष भी जवाब देगा। शून्य प्रहर में इस सूचना के अलावा नकली खोए व मिलावटी तेल की बिक्री, निजी शिक्षण संस्थानों में लूट-खसोट, व्यापारियों की सुरक्षा को खतरा, गरीब पुत्रियों की शादी के लिए सरकारी मदद, वाराणसी के राष्ट्रीय बाल श्रम परियोजना में भ्रष्टाचार, भातखण्डे संस्थान लखनऊ में नियुक्ितयों में अनियमितता के मामले भी उठे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: उत्तेजित नेता सदन को सभापति ने दी हिदायत