अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टीडी गर्ल्स कॉलेज की मान्यता वापस

माध्यमिक शिक्षा परिषद ने गोमतीनगर स्थित टीडी गर्ल्स इण्टर कॉलेज की मान्यता वापस ले ली है। राजधानी के लगभग तीन सौ विद्यालयों की भी मान्यता वापसी पर शासन गंभीरता से विचार कर रहा है।ड्ढr टीडी गर्ल्स इण्टर कॉलेज को यूपी बोर्ड से इण्टरमीडिएट की मान्यता मिली है। लेकिन विद्यालय जिस भूमि पर बना है वह जमीन उसकी नहीं है। इसको लेकर काफी दिनों से विवाद चल रहा है। माध्यमिक शिक्षा मंत्री रंगनाथ मिश्रा ने बताया कि इस कॉलेज की मान्यता वापस ले ली गई है। उन्होंने बताया कि राजधानी के तीन सौ और ऐसे कॉलेज हैं जिनकी भूमि उनके नाम नहीं है। उन्होंने डीआईआेएस से रिपोर्ट भी माँगी। माना जा रहा है कि महीने के अंत तक इन स्कूलों की मान्यता वापस ले ली जाएगी। डीआईआेएस गणेश कुमार ने बताया कि टीडी गर्ल्स इण्टर कॉलेज की छात्राआें को पास के स्कूलों में समायोजित कराया जाएगा। लीज पर जमीन लेने वाले स्कूलों की मान्यता अब वापस नहीं ली जाएगी। ऐसे स्कूलों को छूट दी गई है। तीन केन्द्र व्यवस्थापक बदले द्य माध्यमिक शिक्षा मंत्री के दौरे के बाद बुधवार की देर शाम राजधानी के तीन परीक्षा केन्द्रों के केन्द्र व्यवस्थापक बदल लिए गए। देशप्रेमी शिक्षण संस्थान तथा राम दुलारी काशी प्रसाद इण्टर कॉलेज में संदिग्ध दिखे दो कक्ष निरीक्षकों को कार्यमुक्त कर दिया गया। बुधवार को जिले में कुल छह छात्र नकल करते पकड़े गए। लखनऊ पब्लिक इण्टर कॉलेज जेल रोड में अंग्रेजी माध्यम के प्रश्नपत्र कम पड़ गए। इससे यहाँ काफी देर तक अफरा-तफरी रही। छात्रों ने एक घंटे देर से परीक्षा शुरू होने की बात कही।ड्ढr माध्यमिक शिक्षा मंत्री के दौरे के बाद माउण्ट फोर्ड इण्टर कॉलेज के केन्द्र व्यवस्थापक को हटा दिया गया। मंत्री के दौरे के समय केन्द्र व्यवस्थापक अपने कार्यालय में बैठे हुए थे और उन्हें केन्द्र में मंत्री के आने तक की जानकारी नहीं हुई। इसके चलते संयुक्त शिक्षा निदेशक ने उन्हें हटा दिया। हरिश्चन्द्र इण्टर कॉलेज के छात्र अशरफ पर कॉपियाँ लेकर भागने के आरोप में मुकदमा दर्ज कराया गया है। जबकि अशरफ का कहना है कि कॉपियाँ जमा करते समय उसने भी कॉपी जमा की थी। बाद में शिक्षकों ने उस पर कॉपियाँ न जमा करने का आरोप लगाया। रामकृष्ण विद्यावती इण्टर कॉलेज मौंदा में परीक्षा में नकल के चलते सह जिला विद्यालय निरीक्षक राजेन्द्र सिंह ने यहाँ सुबह की पाली में पूरे समय बैठकर परीक्षा कराई। इससे बच्चों ने कलम रख दी। श्री सिंह के मुताबिक यहाँ नकल की काफी शिकायतें मिल रही थीं। स्पर्श राजकीय बालिका इण्टर कॉलेज, दयानन्द इण्टर कॉलेज, गोपीनाथ लक्ष्मण दास रस्तोगी इण्टर कॉलेज, एमडी शुक्ला इण्टर कॉलेज तथा मुमताज इण्टर कॉलेज अमीनाबाद से एक-एक नकलची पकड़ा गया। स्पर्श राजकीय दृष्टि बाधित इण्टर कॉलेज से एक शिक्षक को कार्यमुक्त किया गया। माध्यमिक शिक्षा मंत्री ने नेशनल इण्टर कॉलेज में शिक्षक नेता आशा लता सिंह के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने का निर्देश दिया है। श्रीमती सिंह एक निजी विद्यालय की प्रबंधक भी हैं और तथ्यों को छुपाते हुए उसी परीक्षा केन्द्र में कक्ष निरीक्षक बन गईं जिसमें उनके निजी विद्यालय का सेण्टर गया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: टीडी गर्ल्स कॉलेज की मान्यता वापस