अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सेना को रोकने के लिए लिट्टे ने किए आत्मघाती हमले

ाुद को बचाए रखने की अंतिम जंग शुरू करते हुए लिट्टे विद्राहियों ने जमीन तथा समुद्र में ताबड़तोड़ आत्मघाती हमले शुरू कर दिए हैं लेकिन वह श्रीलंकाई सैनिकों को आगे बढ़ने से रोकने में विफल रहा है। सेना लिट्टे के रक्षा घेर का ताड़त हुए भीषण संघर्ष मं 44 विद्राहियां का मार गिराया है। संघर्ष मं कई सैनिक घायल भी हुए हैं । दानां पक्ष युद्धविराम के नए अंतरराष्ट्रीय आह्वानों का नजरअंदाज कर भीषण संघर्ष का आग बढ़ा रह हैं। मानवाधिकार समूहां न दावा किया है कि नागरिकां का ढाल के रूप मं इस्तमाल किया जा रहा है। सेना की दा डिवीजन फंस हुए लिट्टे लड़ाकां की आर बढ़ रही हैं तथा उन्होंने एक महत्वपूर्ण मार्ग पर कब्जा कर लिया है जा संघर्ष क्षत्र स करीब 50 हजार लागां का वहां स निकालन मं उसक प्रयासां मं मदद कर सकता है। सुरक्षाबलां न करियामुल्लावइकिल मं खाजबीन और सफाया अभियान क तहत लिट्टे लड़ाकां के 43 शव तथा भारी मात्रा मं हथियार एवं गाला बारूद बरामद किया है। मंगलवार रात सना न लिट्टे के एक समुद्री आत्मघाती हमल का करारा जवाब दिया। हमल मं तीन तज गति स आ रही नौकाआं न किनार पर स्थित सैनिक ठिकानां का चपट मं लन की काशिश की।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सेना को रोकने के लिए लिट्टे ने किए आत्मघाती हमले