DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आपत्तिजनक सीडी मामले में सीबीआई जाँच की सिफारिश

प्रदेश सरकार ने बस्ती जिले के तीसरी आजादी नामक आपत्तिजनक सीडी मामले की सीबीआई जाँच कराने का फैसला किया है। मुख्यमंत्री मायावती ने बुधवार को अपने सरकारी आवास पर पत्रकारों को इस फैसले की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि इस सीडी में समाज के विभिन्न वर्गो के बीच द्वेष फैलाने और समाज को तोड़ने की साजिश थी। इस मामले में एक चैनल के दो रिपोर्टरों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। शुरुआती जाँच में यह भी पता चला है कि इसी सीडी के मामले में वर्ष 2006 में मध्य प्रदेश के जबलपुर में एक व्यक्ित के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया था।ड्ढr मुख्यमंत्री ने कहा कि सीडी मामले की जानकारी होते ही सरकार ने तत्काल कार्रवाई करते हुए सभी आरोपितों और संबंधित टीवी चैनल के प्रबंध निदेशक और संवाददाताआें के खिलाफ बस्ती के र्हैया थाने में एफआईआर दर्ज कराई है, जिसमें तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है। मायावती ने कहा कि बस्ती में जो सीडी पकड़ी गई है, वह पिछले कई वर्ष से देश के कई राज्यों में बाँटी जा रही थी। सीडी को महाराष्ट्र में तैयार किया गया है। महाराष्ट्र में समय-समय पर कांग्रेस, भाजपा और शिवसेना सत्ता में रही हैं। इससे स्पष्ट है कि इस सीडी को बनाने और बँटवाने में जरूर इन्हीं दलों का हाथ रहा है। उन्होंने बताया कि यूपी में विभिन्न संस्थाओं के नाम से इस सीडी का वितरण किया जा रहा है। उन्होंने सभी जिलाधिकारियों और पुलिस अधीक्षकों को सीडी जब्त करने और एफआईआर दर्ज कराने के आदेश दिए हैं।ड्ढr ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: आपत्तिजनक सीडी मामले में सीबीआई जाँच की सिफारिश