अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिहारी होने के कारण मारा गया सद्दाम

‘मुम्बई में उत्तर भारतीयों के विरुद्ध जारी हिंसा में उपद्रवियों ने मेरे भाई मो. सद्दाम (20) को पीट-पीट कर मार डाला। वहां किसी तरह अपने भाई के शव को दफना कर मैं जान बचाकर भाग आया हूं। बड़े भाई के मारे जाने एवं काम छोड़कर लौट आने के कारण परिवार के सामने भुखमरी की स्थिति उत्पन्न हो गयी है।’ विरदीपुर (सिंहवाड़ा) का बालक अब्दुल कलाम (16) यह आपबीती सुनाते-सुनाते फफक पड़ता है।ड्ढr ड्ढr उसने बताया कि वहां आम मराठियों को विवाद से कोई मतलब नहीं है। चंद उपद्रवी वैसे इलाक ों में दंगा-फसाद कर रहे हैं, जहां बिहारियों की तादाद कम है। अब उपद्रवियों के खिलाफ बिहारी भी वहां एकजुट हो रहे हैं। सद्दाम की हत्या की जानकारी से उसकी मां नाजनी बेगम 20 दिनों से मौन है, वहीं गांव के लगभग 5 दर्जन वैसे परिवारों में ठीक से चूल्हा भी नहीं जल रहा जिसके बच्चे मुम्बई में हैं। तनवीर के पिता मो. अंजार, रियाजुद्दीन के पिता जियाउद्दीन हैदर, शंभु पासवान के पिता अच्छे लाल पासवान, रंजीत पासवान के पिता हरबी पासवान, सरफे आलग के पिता मो. मजीद, शहनबाज के पिता मो. आफताब आदि अपने पुत्र मुम्बई से सकुशल वापसी की राह देख रहे हैं। जियाउद्दीन हैदर ने बताया कि क्षेत्रवाद के नाम पर उत्पात मचाने वालों के खिलाफ सरकार की चुप्पी राष्ट्रहित में नहीं है। विवाद शुरू होने के बाद जान बचाकर मुम्बई से लौटे रोहित सहनी, अब्दुल कलाम, मो. शकील आदि ने बताया कि स्टेशन पर एवं ट्रेन में भी उनके साथ मारपीट की गई एवं रुपये छीन लिए गए।ड्ढr ड्ढr पुलिस की सुस्ती देख हमलोगों ने शिकायत नहीं की। जानकारी के अनुसार सद्दाम चार वर्ष पूर्व से ही मुम्बई के मौलाना शौकत अली रोड में मजदूरी कर रहा था। पिछले वर्ष अपने छोटे भाई कलाम को भी वह वहीं काम पर ले गया। विरदीपुर के लगभग 60 लोग मुम्बई में ही काम करते हैं। मेहनत के बल पर कमाए पैसे से यहां इनके परिवार का गुजारा चलता है। कलाम के अनुसार उसका बड़ा भाई सद्दाम रोज की तरह 1रवरी को भी काम पर निकला। छोटा सोनपुर इलाके में चल रहे बिहारियों के विरुद्ध जंग में वह फंस गया। लात-घूंसे की पिटाई से जख्मी हो वह लंगड़ाते हुए किसी तरह डेरा लौट आया। शाम होती ही उसका शरीर फूलने लगा। दर्द से बेचैन होने पर उसे 20 फरवरी को जय-जय हास्पिटल में भर्ती किया गया जहां इलाज के दौरान उसकी मृत्यु हो गयी। कलाम ने बताया कि पुलिस ने पोस्टमार्टम करवाकर लाश उसे वापस कर दी जिसे स्थानीय लोगों के सहयोग से दफना दिया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बिहारी होने के कारण मारा गया सद्दाम