DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उपयोगिता विवरण देने में कई कालेज विफल

विवि के आधा दर्जन से ज्यादा अंगीभूत कॉलेज 10वीं पंचवर्षीय योजना की उपयोगिता और रिव्यू का ब्यौरा विवि को उपलब्ध नहीं करा पाए। विवि ने आमतौर पर राजभवन और विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा विभिन्न पंचवर्षीय योजनाआें की उपयोगिता की मांगी जाने वाली जानकारी की बाबत कॉलेजों को इस संबंध में अद्यतन जानकारी उपलब्ध कराने को कहा था। लेकिन बुधवार को कुलपति की अध्यक्षता में प्राचायरे की हुई बैठक में कुछ कॉलेज यह जानकारी उपलब्ध कराने में विफल रहे।ड्ढr ड्ढr यही हालत 11वीं पंचवर्षीय योजना की भी रही। वर्ष 2007-12 की इस पंचवर्षीय योजना के प्रस्तावों की विवि द्वारा मांगी गई जानकारी भी कुछ कॉलेज उपलब्ध नहीं करा पाए। यह जानकारी ईकाईवार मांगी गई थी। हालांकि निर्माण कायरे की उपयोगिता के संबंध में बताया गया कि तकनीकी कारणों से यूजीसी ने इसके लिए समय-सीमा बढ़ा दी है। भोरे में बच्चों के विवाद में महिला की पीटकर हत्याड्ढr भोरे (गोपालगंज) (ए.सं.)। स्थानीय थाने के सुमैरी छापर गांव में बच्चों के झगड़े को लेकर हुए विवाद में एक महिला की डंडे से पीट पीटकर हत्या कर दी गई। मृतका लगन साह की पत्नी चंपा देवी (26) बताई गई है। सूचनानुसार चंपा देवी तथा अनिल साह के परिवार के बीच किसी बात को लेकर विवाद हुआ। विवाद की जानकारी होने पर अनिल साह गुस्से में आकर चंपा देवी को डंडे से सिर पर मार दिया जिससे वह गंभीर रुप से घायल हो गई। परिजनों ने उसे तत्काल चिंताजनक स्थिति में भोरे अस्पताल पहुंचाया लेकिन गंभीर स्थिति को देखते हुए उसे गोरखपुर रेफर कर दिया गया। जहां उसकी इलाज के क्रम में मौत हो गई। बाद में पुलिस ने शव को जब्त कर पोस्टमार्टम के लिए गोपालगंज भेज दिया।ड्ढr युवक की गोली मार हत्याड्ढr गयाटिकारी (हि.प्र.नि.सं.)। सशस्त्र अपराधियों के एक गिरोह ने मंगलवार की रात 20 वर्षीय युवक अरुण कुमार की गोली मारकर हत्या कर दी। मृतक टिकारी थाने के रुपण बिगहा गांव का रहने वाला था और अपने दो साथियों के साथ घटना की रात टेम्पो से केहोड़ा गांव जा रहा था। बताया जाता है कि युवक को मारने से पूर्व अपराधियों ने तीनों से लूटपाट की थी। पुलिस का कहना है कि लूटपाट का विरोध करने के कारण अपराधियों ने अरुण को गोली मार दी।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: उपयोगिता विवरण देने में कई कालेज विफल