अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एनएमसीएच में डाक्टरों ने आेपीडी ठप रखी

एनएमसीएच में थम नहीं रहा जूनियर डाक्टरों का आन्दोलन। डीएसपी के आश्वासन के बावजूद भी सुरक्षा नहीं मिलने पर बुधवार को पुन: इमरजेंसी समेत सभी ओपीडी बंद रहीं। इस दरम्यान अस्पताल पहुंचे दो गंभीर मरीजों की मौत इमरजेंसी बंद होने के कारण हो गई। जिसमें मीना बाजार का सुखदेव पंडित तथा बिहट (बेगूसराय) की रेणु कुमारी शामिल हैं। हालांकि पुलिस प्रशासन के आश्वासन एवं अस्पताल प्रशासन के हस्तक्षेप के बाद जूनियर डाक्टरों ने अपनी हड़ताल वापस ली।ड्ढr ड्ढr इस बीच अस्पताल में आने वाले लगभग सभी मरीजों को बगैर उपचार के ही लौटना पड़ा। पूर्ण सुरक्षा की मांग के लिए अस्पताल परिसर में चौबीस घंटे राइफलधारी पुलिस की प्रतिनियुक्ित की मांग कर रहे थे। इस दरम्यान पुलिस प्रशासन के साथ अस्पताल अधीक्षक एवं डा. आर.आर. चौधरी, डा. ए.के. ठाकुर, डा. ए.के. जायसवाल एवं शैलेन्द्र कुमार ने बातचीत की। वरीय चिकित्सकों ने घटना को देखते हुए 24 घंटे स्थायी पुलिस बल की प्रतिनियुक्ित की मांग प्रशासन से की। पुलिस बल की तैनाती देख जूनियर डाक्टर्स काम पर लौटे। इस दरम्यान दो मरीजों की मौत उपचार के अभाव में अस्पताल परिसर में हो गई। चिकित्सकों के अनुसार सुखदेव पंडित की मौत कैंसर के कारण तथा रेणु की मौत टीवी व लीवर में सूजन के कारण हुई। दोनों का उपचार निजी क्लीनिक में चल रहा था। गंभीर अवस्था में उसे एनएमसीएच में लाया गया था। हड़ताल के दौरान जूनियर डाक्टरों की कुछ अस्पताल कर्मियों के साथ गेट बंद कराने को लेकर नोकझोंक भी हुई। दूसरी ओर पुलिस बल के हटने के बाद इमरजेंसी से एसीओ ने पुन: कार्य का बहिष्कार किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: एनएमसीएच में डाक्टरों ने आेपीडी ठप रखी