अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बाढ़ नियंत्रण की डीपीआर आयोग को सौंपी गई

अधवारा समूह की नदियों की बाढ़ नियंत्रण संबंधी डीपीआर गंगा बाढ़ नियंत्रण आयोग को सौंप दी गयी है। योजना के कार्यान्वयन से सीतामढ़ी, दरभंगा और मुजफ्फरपुर के 11 प्रखंडों में 70 लाख आबादी को बाढ़ से निजात मिलेगी। बुधवार को विधानसभा में रामचन्द्र पूर्वे और रामनिवास प्रसाद की ध्यानाकर्षण सूचना पर जल संसाधन मंत्री रामाश्रय प्रसाद सिंह ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि पूर्वी चम्पारण में सिकरहना तटबंध के निर्माण के लिए भी 224 करोड़ रुपये खर्च की अनुशंसा की गयी है। भारत-नेपाल सीमा पर त्रिशूला नदी पर तटबंध निमार्ण के लिए केन्द्र से परामर्श किया जायेगा।ड्ढr ड्ढr मंत्री ने स्वीकार किया कि अधवारा समूह की नदियों में बाढ़ की वजह से प्रति वर्ष सीतामढ़ी, दरभंगा और मुजफ्फरपुर में बड़े पैमाने पर फसल और ग्रामीण सड़कों को क्षति होती है। विस्थापितों को बांधों और सड़कों का सहारा लेना पड़ता है। गंगा बाढ़ नियंत्रण आयोग को बाढ़ नियंत्रण की डीपीआर सौंपने और बजट प्रावधान के बाद अब सिंचाई परियोजनाओं के लिए भी अलग से डीपीआर बन रही है। प्रमोद कुमार के प्रश्न पर उन्होंने बताया कि बूढ़ी गंडक नदी के सिकरहना तटबंध के निर्माण के लिए गंगा बाढ़ नियंत्रण आयोग को 224 करोड़ रुपये की योजना सौंपी गयी है। कपिलदेव कामत के सवाल पर मंत्री ने यह भरोसा दिलाया कि त्रिशूला नदी पर तटबंध निर्माण के लिए जल्द ही केन्द्रीय बाढ़ नियंत्रण आयोग से परामर्श लिया जायेगा।ड्ढr ड्ढr जांच- पूर्वी चम्पारण के लधिरमा में रिंग बांध है या नहीं, इसकी जांच होगी। महेश्वर सिंह द्वारा चुनौती देने पर जल संसाधन मंत्री ने यह घोषणा की। सदस्य का कहना था कि चम्पारण तटबंध के 47.5 माइल से लधिरमा तक िरगबांध क्षतिग्रस्त है जबकि मंत्री ने कहा कि वहां बांध नहीं है।ड्ढr निर्माण- नालन्दा में पंचाने नदी पर तटबंध बनाने के लिए टेंडर हो गया है। योजना के कार्यान्वयन से रहुई और हरनौत प्रखंडों को सिंचाई सुविधा मिलेगी। सुनील कुमार के प्रश्न पर जल संसाधन मंत्री ने यह जानकारी दी। नीरज कुमार सिंह के सवाल पर उन्होंने कहा कि सुपौल में बसंतपुर स्थित पूर्वी मुख्य कैनाल के 22 आरडी पर नये डिजाइन के साइफन का निर्माण कराया जायेगा। पदमुक्त करने की अनुशंसा - गोपालगंज जिला के कुचायकोट प्रखण्ड की रामपुर माधो पंचायत की मुखिया को पदमुक्त करने की अनुशंसा की गयी है। साथ ही मुखिया एवं उनके पति के विरुद्ध सुसंगत धाराओं में मुकदमा दर्ज किया जाएगा। ग्रामीण अभियंत्रण मंत्री नरेन्द्र नारायण यादव ने बुधवार को विधान परिषद में सुनील सिंह के ध्यानाकर्षण के जवाब में यह घोषणा की। उन्होंने कहा कि गोपालगंज के डीएम की रिपोर्ट के अनुसार मुखिया एवं उनके पति के विरुद्ध विभिन्न प्रकार की शिकायतें पायी गयी थीं जिन्हें जांच के बाद सही पाया गया। इनमें मुख्य रूप से सोलर लाइट और राशन कूपन से संबंधित शिकायतें हैं। उन्होंने सदन को जानकारी दी कि वह गोपालगंज के डीएम को मुखिया और उनके संबंधी के विरुद्ध मुकदमा दर्ज करने का आदेश दे रहे हैं।ड्ढr विस्थापित-गंडक नदी के कटाव पीड़ित पश्चिम चंपारण के ठकराहा प्रखण्ड के बहेलिया गांव तथा बगहा नगर परिषद के शास्त्रीनगर मुहल्ला के सैकड़ों विस्थापित परिवारों को जमीन और घर बनाने के लिए अनुदान उपलब्ध कराने की कार्रवाई की जा रही है। बगहा-2 के पंचायत रासपुरवा के अंतर्गत 21.14 एकड़ जमीन अर्जित करने की कार्रवाई की जा रही है। इसके लिए लाख 5हजार रुपए की प्रशासनिक स्वीकृति दी जा चुकी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बाढ़ नियंत्रण की डीपीआर आयोग को सौंपी गई