DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गंगा की लहरों पर होगी नृत्य नाटिका

गंगा की लहरों पर तैरती दीपों की जगमग रोशनी। गंगा के कछार पर जल को पाश्र्व बनाकर कलाकारों के लिए बना मंच और उसपर मां गंगा की स्तुति से पावन होता पूरा परिवेश। कलकल करती गंगा की जलधारा के साथ में घुंघरुओं की रुनझुन। गायघाट पर यह अलौकिक छटा 16 मार्च की शाम बिखरेगी। रुठी गंगा को मनाने का एक और प्रयास।ड्ढr ड्ढr हिन्दुस्तान व हिन्दुस्तान टाइम्स के संयुक्त तत्वावधान में ‘गंगा’ नृत्य नाटिका की अनुपम प्रस्तुति सांस्कृतिक संस्था ‘निनाद’ द्वारा की जाएगी। हिन्दुस्तान व हिन्दुस्तान टाइम्स द्वारा पिछले वर्षो में रुठी गंगा को मनाने के कई सराहनीय प्रयास किए गए हैं। उसी कड़ी में एक और प्रयास इस रविवार को होगा। गायघाट पर इस भव्य प्रस्तुति के लिए मंच बनाने का काम जोरों पर हैं। सोनपुर के कारीगर 106 31 फीट के मंच तैयार करने में जुटे हैं। साथ ही मंच के सामने लगभग बीस से पच्चीस नौकाएं दीपमालाओं से सुसज्जित रहेंगी। इस भव्य व अलौकिक परिवेश के बीच देश व सूबे के श्रेष्टतम कथक नृत्यांगना व नर्तक मां गंगा की स्तुति में नृत्य नाटिका पेश करेंगे। नृत्य नाटिका की मुख्य भूमिका में चर्चित कथक नृत्यांगना नीलम चौधरी होंगी।ड्ढr ड्ढr निनाद की सचिव नीलम चौधरी ने बताया कि इस नृत्य नाटिका में कोलकाता के चार व मुजफ्फरपुर की दो कलाकारों के साथ कुल 18 कलाकार शिरकत करेंगे। कोलकाता से आनेवाले कलाकारों में सुस्मिता बनर्जी, नंदिनी चक्रवर्ती, अर्पिता व पोन्ही सेनगुप्ता,मुजफ्फरपुर की पूजा,उपमा व राज्य की रश्मि चौधरी व भावना मिश्रा प्रमुख हैं। मुख्य प्रस्तुति से पहले कोलकाता के कलाकारों द्वारा दस मिनट की एक प्रस्तुति होगी जो अर्धनारीश्वर पर केंद्रित रहेगी। लगभग चालीस मिनट की इस प्रस्तुति में इस सवाल का जवाब ढूंढने की कोशिश की जाएगी कि क्या हम अपने अतीत के इस अमृत को विरासत के रूप में भविष्य की पीढ़ियों को सौंप पाएंगे?ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: गंगा की लहरों पर होगी नृत्य नाटिका