DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रक्षेपास्त्र प्रणाली पर नाटो देश एकमत नहीं

उत्तर अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) के सदस्य देश अमेरिका के प्रक्षेपास्त्र रक्षा प्रणाली के बारे में एकमत नहीं हैं। इसलिए इसके बारे में समर्थन देने अथवा नहीं देने के बारे निर्णय लेने में देरी हो सकती है। अमेरिका ने अपने योजनाबद्ध रक्षा तंत्र के दायरे से बाहर वाले यूरोप के उन हिस्सों की रक्षा के लिए पोलैंड और चेक गणराय में प्रक्षेपास्त्र रक्षा प्रणाली लगाने की योजना बनाई है। अमेरिका ने अगले महीने आयोजित नाटो सम्मेलन में सदस्य देशों से प्रणाली की वास्तविक प्रबंध योजना को आगे बढ़ाने के बारे में निर्णय देने के लिए कहा है। हालांकि नाटो के सदस्य देश ग्रीस, रोमानिया, बुल्गारिया और तुर्की यह प्रणाली लगने के बावजूद भी ईरान और उत्तर कोरिया जैसे देशों से प्रक्षेपास्त्र हमला होने की स्थिति में सुरक्षित नहीं होंगे और अमेरिका ने इस रक्षा प्रणाली की योजना ईरान और उत्तर कोरिया जैसे देशों को ध्यान में रखकर तैयार की गई है। नाटो के रक्षा निवेश मंडल के सहायक महासचिव पीटर फ्लोरी ने बुधवार एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि मुझे नहीं लगता कि उस सम्मेलन में इस बारे में कोई निर्णय हो पाएगा। मुझे नहीं लगता है कि नाटो कोई भी देश इस योजना को आगे बढ़ाने में रुचि रखता है। रूस ने इस प्रणाली का पहले ही विरोध किया है और यह हमारे लिए भी विचार का एक अहम मुद्दा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: प्रक्षेपास्त्र प्रणाली पर नाटो देश एकमत नहीं