अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बुढ़ापे से बचाने में जुटे वैज्ञानिक

अमेरिका में वैज्ञानिकों ने खमीर और गोल कृमि में बढ़ती उम्र के लिए जिम्मेवार 25 जीन्स के बारे में पता लगाया है, जिसमें से 15 जीन्स मनुष्य में पाए जाने वाले जीन्स से मिलते-जुलते हैं। इस नई खोज से उत्साहित अध्ययनकर्ता इन जीन्स को मनुष्यों के साथ जोड़कर देख रहे हैं। इस खोज से पहली बार वैज्ञानिकों को आनुवांशिकता के साथ बढ़ती उम्र के संबंध का पता चला है। वैज्ञानिकों का मानना है कि ऐसे जीन्स संभवत: मनुष्यों में भी पाए जाते हैं। अध्ययन से जुड़े वाशिंगटन विश्वविद्यालय के शोधकर्ता ब्रायन केनेडी ने बताया, ‘‘हमें पूरा विश्वास है कि इनमें से कुछ जीन्स तो वास्तव में होते हैं, अब हम ताजा अध्ययन की सहायता से मनुष्यों की बढ़ती उम्र के बारे में पता लगाएंगे।’’ केनेडी ने कहा कि इन जीन्स को नष्ट करके उम्रदराज होने की प्रक्रिया को रोका जा सकेगा। यही नहीं बुढ़ापे संबंधी रोगों के इलाज में भी यह जीन्स वैज्ञानिकों के लिए काफी मददगार साबित हो सकते हैं। गौरतलब है कि वैज्ञानिकों ने एक पुराने शोध में बढ़ती उम्र और आनुवांशिकता के बीच कोई संबंध नहीं होने की पुष्टि की थी। ताजा अध्ययन के नतीजों को जर्नल ‘जिनोम रिसर्च’ के आनलाइन संस्करण में प्रकाशित किया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बुढ़ापे से बचाने में जुटे वैज्ञानिक