अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खबरें कोयला जगत की

ामगारों के वेतन समझौते पर बैठक नौ को कोलकाता मेंरांची (सं)। कोयला कामगारों के वेतन समझौते को लेकर जेबीसीसीआइ की अहम बैठक नौ अप्रैल को कोलकाता में होगी। इसमें सीटू 25 फीसदी अंतरिम राहत भुगतान की मांग करेगा।ड्ढr एनसीआेइए के महासचिव मिहिर चौधरी ने बताया कि अब समझौता अवधि कोई मुद्दा नहीं रह गया है। सभी श्रमिक संगठन पांच साल का वेतन समझौता ही चाहते हैं। यह बैठक भी पांच साल के वेतन समझौते के लिए ही होगा। सभी श्रमिक संगठन जून 08 तक एग्रीमेंट फाइनल करने की बात कोल इंडिया प्रबंधन से करेंगे। इसमें अगर वह आनाकानी करता है, तब तत्काल प्रभाव से 25 फीसदी अंतरिम राहत देने की मांग की जायेगी। बातचीत के क्रम में प्रबंधन का टालू रवैया नजर आने पर सभी श्रमिक संगठन एक साथ बैठ कर आंदोलन की रणनीति बनायेंगे। इसमें हड़ताल पर जाने का निर्णय भी लिया जा सकता है।ड्ढr जेबीसीसीआइ-8 की यह चौथी बैठक है। पिछली बैठक बनारस में हुई थी। सनद रहे कि कामगारों का वेतन समझौता जुलाई 06 से लंबित है। हालांकि इसके करीब एक वर्ष बाद जेबीसीसीआइ का गठन किया गया था। सीसीएल अस्पताल में दवा का अभाव रांची। मिनी रत्न कंपनी सीसीएल के अस्पताल और डिस्पेंसरियों में दवाआें की कमी है। जीवन रक्षक दवा भी कम मात्रा में उपलब्ध है। आउटडोर के लिए कम मात्रा में दवाएं आ रही हैं। यह मुश्किल से सप्ताह भर ही चल पा रही हैं। भर्ती मरीजों को भी दवा बाहर से खरीदनी पड़ रहा है। जानकारी के मुताबिक हृदय रोग, चर्म रोग, आंख रोग, बच्चों की बीमारी, टेटनस रोकने, एंटी रैबीज दवा नहीं है। दूसरी आेर सौंदर्यीकरण के नाम पर लाखों रुपये खर्च किया जा रहा है। उधर डीपी टीके चांद के मुताबिक अभी अस्पताल में 76 प्रकार की दवाएं मिल रही हैं। मार्च अंत तक 136 प्रकार की दवाएं मिलेंगी। इसके बाद कमी नहीं होगी। इस बीच जरूरत के हिसाब से अधिकारियों को 25000 रुपये की दवा खरीदने के लिए अधिकृत किया गया है।ड्ढr कामगार हित नहीं चाहते नेता : यूनियनड्ढr रांची। दी झारखंड कोलियरी मजदूर यूनियन के सदस्य गौतम मांझी, राजकुमार सिंह, सुभाषीश चटर्जी, गोपाल दास और एच रहमान ने कहा कि श्रमिक नेता कामगारों का भला नहीं चाहते हैं। बेतहर वेतन और सुविधा दिलाने के पक्ष में नहीं हैं। यही कारण है कि वे 27000 और दस साल के वेतन समझौते का विरोध कर रहे हैं। अधिकारियों के 51000 की मांगने पर विरोध नहीं करते हैं। उन्होंने कहा कि ये सभी दोहरे चरित्र के हैं। सेल में इन्होंने एडहॉक पेमेंट कराया है। कोल इंडिया में आइआर की वकालत कर रहे हैं। उनके झांसे में अब कामगार आने वाले नहीं हैं। ज्ञापन भेज कर कामगार अपनी भावना से प्रबंधन को अवगत करा चुके हैं।ड्ढr कोल वर्कर्स फेडरेशन की बैठक आठ सेड्ढr रांची। ऑल इंडिया कोल वर्कर्स फेडरेशन (सीटू) के पदाधिकारियों की बैठक आठ अप्रैल को कोलकाता में होगी। इसमें वेतन समझौते को लेकर चर्चा की जायेगी। संगठन की वर्किंग कमेटी की बैठक नौ अप्रैल को होगी। इसमें जेबीसीसीआइ बैठक में संगठन द्वारा रखे जानेवाले पक्ष पर निर्णय लिया जायेगा। यह जानकारी मिहिर चौधरी ने दी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: खबरें कोयला जगत की