अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पॉलीटेक्िनक संस्थानों में होगी परफ्यूमरी की पढ़ाई

प्राविधिक शिक्षा परिषद राज्य के पॉलीटेक्िनक संस्थानों में परफ्यूमरी और एरोमाथेरेपी का एक वर्ष का डिप्लोमा कोर्स शुरू करेगी। इसके लिए प्राविधिक शिक्षा परिषद के शोध एवं विकास प्रशिक्षण संस्थान ने कन्नौज एफएफडीसी के साथ मिलकर इस डिप्लोमा के पाठ्यक्रम की डिजाइनिंग शुरू कर दी है। राज्य की दस पॉलीटेक्िनक के प्राध्यापकों का कन्नौज के एफएफडीसी में प्रशिक्षण भी शुरू हो गया है।ड्ढr गौरतलब है कि कन्नौज के इत्र उद्योग को संरक्षण देने के लिए केन्द्र सरकार ने संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम के अंतर्गत 1में एक स्वायत्तशासी उपक्रम के रूप में फ्लेवर एण्ड फ्रेगरेंस डेवलेपमेंट सेंटर की स्थापना की थी। इस केन्द्र द्वारा लगातार इत्र और उनके निर्माण की तकनीक पर शोध कार्य जारी है। यहाँ साल भर चलने वाले प्रशिक्षण कार्यक्रमों में विदेशी प्रशिक्षणार्थी भी आते हैं। उत्तर प्रदेश सरकार ने एफएफडीसी की विशेषज्ञता से प्रभावित होकर पॉलीटेक्िनक की पढ़ाई में परफ्यूमरी और एरोमाथेरेपी (सुगंध चिकित्साशास्त्र) का एक वर्षीय डिप्लोमा कोर्स शुरू करने का निर्णय लिया है।ड्ढr गुरुवार को राज्य की दस पालीटेक्िनक संस्थाआें से आए प्राध्यापकों का प्रशिक्षण प्रारम्भ हुआ। इनमें केमिकल और मैकेनिकल विभागों के शिक्षक शामिल हैं। एफएफडीसी के उपनिदेशक ने बताया कि शोध एवं विकास प्रशिक्षण संस्थान ने यह योजना तैयार की है। जिसके तहत पॉलीटेक्िनक के प्राध्यापकांे को दस-दस के बैच में प्रशिक्षण दिया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पॉलीटेक्िनक संस्थानों में होगी परफ्यूमरी की पढ़ाई