DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कांग्रेस ने खोला वाम के 30 साल का कच्चा चिट्ठा

ांग्रेस ने पश्चिमी बंगाल में वाम मोर्चे के 30 साल के कुशासन का रविवार को कच्चा चिट्ठा जारी कर दिया लेकिन चुनाव के बाद सरकार के गठन के लिए उनका समर्थन लेने की सम्भावना से भी इंकार नहीं किया। कांग्रेस ने पश्चिम बंगाल का एक और विभाजन करने वाली गोरखालैंड की मांग को भी खारिज कर दिया और कहा कि तीन बार विभाजन का सामना कर चुके पश्चिम बंगाल का चौथा विभाजन जनता स्वीकार नहीं करेगी। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रणव मुखर्जी ने पार्टी मुख्यालय में 12 पृष्ठों का यह रिपोर्ट कार्ड जारी किया जिसमें आंकड़ों के हवालों से बताया गया है कि माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) की अगुवाई में पश्चिम बंगाल में वाम मोर्चे के 30 साल तक की निर्बाध सत्ता में रहने के दौरान राज्य की कैसी दुर्गति हुई है। मुखर्जी ने कहा कि पार्टी ने इस तथ्य पत्र के लिए पश्चिम बंगाल को खास तौर से इस लिए चुना है कि वहां लगातार 30 साल से वामदलों की सरकार रही है और हम यह बताना चाहते हैं कि वाम दल जब एक ही राज्य में ठीक से सरकार नहीं चला सकते तो पूरे देश में सरकार की अगुवाई कैसे कर सकते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कांग्रेस ने खोला वाम के 30 साल का चिट्ठा