DA Image
18 जनवरी, 2020|3:11|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सिटीगैस वितरण को गेल ने कसी कमर

अगला दशक सिटीगैस वितरण का होगा और इसके लिए सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी गेल इंडिया ने पूरी तरह कमर कस ली है। कंपनी सिटीगैस वितरण (सीजीडी) तथा सीएनजी कारीडोर व्यवसाय के लिए एक सहायक कंपनी की स्थापना भी कर रही है। यह कंपनी गेल के अन्य व्यवसायों में भी कंपनी की मदद करेगी। खास बात यह है कि इस सहायक कंपनी की सीधी पहुंच गेल के 6700 किलोमीटर तक के मौजूदा तथा पूरे देश भर में प्रस्तावित 5500 किलोमीटर के नेटवर्क तक होगी। इससे प्राकृतिक गैस जैसे स्वच्छ ईंधन के आर्थिक तथा पर्यावरण से जुड़े लाभ को देश के दूरस्थ हिस्सों तक पहुंचाया जा सकेगा। कंपनी के सूत्रों ने बताया कि फिलहाल इस सहायक कंपनी के जिम्मे जो मुख्य काम हैं वे हैं-वाहनों के लिए ईंधन के रूप में सीएनजी का वितरण तथा मार्केटिंग, घरेलू, व्यवसायिक , औद्योगिक कार्यो के लिए पाइप्ड नैचुरल गैस का उपयोग तथा भारत एवं विदेश के विभिन्न शहरों में ट्रांसपोर्ट वाहनों के लिए ईंधन के रूप में आटो एलपीजी का इस्तेमाल। इस सहायक कंपनी की स्थापना पर 500 करोड़ रुपये का निवेश किया जाएगा। कंपनी के सूत्रों ने बताया कि यह सहायक कंपनी सीएनजी कारीडोर के निर्माण के लिए भारत के विभिन्न शहरों में तथा राष्ट्रीय राजमार्गो के आसपास ढांचागत सुविधाओं की स्थापना करने तथा उसमें निवेश का काम भी करेगी। इन ढांचागत सुविधाओं में नैचुरल गैस काम्प्रेशर स्टेशनों की स्थापना, सिटीगैस स्टेशनों से उपभोग क्षेत्रों तक पाइपलाइन बिछाने तथा अन्य संबंधित सुविधाओं के निर्माण करने, सीएनजी व आटो एलपीजी के लिए वितरण स्थलों तथा रिटेल आउटलेटों की स्थापना करने और मोबाइल लारी के जरिये गैस को ट्रांसपोर्ट करना शामिल है। यह सहायक कंपनी सिटीगैस परियोजनाओं के क्रियान्वयन के गैस उत्पादकों तथा रणनीतिक साझीदारों के साथ गठबंधन भी करेगी। सूत्रों ने बताया कि यह कंपनी सीएनजी कारीडोर परियोजना का कार्य भी शुरू करेगी जिसमें राजमार्गो के साथ साथ सीएनजी स्टेशनों की स्थापना के लिए 35 करोड़ रुपये का अनुमानित कैपिटल आउटले शामिल है। गेल ने 230 शहरों की पहचान की है जो चरणबद्ध तरीके से सिटीगैस वितरण के लिए मौजूदा तथा प्रस्तावित पाइपलाइनों से जुड़े हैं। पहले चरण में, 17 शहरों की पहचान की गई है जिनमें सहायक कंपनी के जरिये कार्य शुरू किया जाएगा लेकिन इससे पहले इसे पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस नियामक बोर्ड (पीएनजीआरबी) से अधिकार पत्र प्राप्त करना होगा।ं

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: सिटीगैस वितरण को गेल ने कसी कमर