अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मधु

प्रदेश कांग्रेस कार्यकारिणी की बैठक में आधे से अधिक सदस्यों ने राज्य की मधु कोड़ा सरकार से समर्थन वापस लेने पर बल दिया। सदस्यों का कहना था कि जितने दिनों तक मधु कोड़ा की सरकार चलती रहेगी, कांग्रेस उतनी ही कमजोर होगी। विधायकों की भूमिका पर भी सदस्य खुश नहीं थे। उनका कहना था कि विधायकों ने अगर सरकार से समर्थन वापस लेने का प्रस्ताव पारित कर कांग्रेस आलाकमान को भेजा है, तो विधानसभा में सरकार को समर्थन करते रहना गलत है।ड्ढr प्रदेश कांग्रेस के उपाध्यक्ष अमानत अली ने कहा कि झारखंड की स्थिति खराब है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को राज्य के हालात से वाकिफ कराना जरूरी हो गया है। कांग्रेस कार्यकारिणी के सदस्यों को दिल्ली जाकर श्रीमती गांधी से मिलने की अनुमति दी जानी चाहिए। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पीएन सिंह, राणा संग्राम सिंह और हरिनारायण प्रसाद ने भी उनकी बातों का समर्थन किया। कार्यसमिति के सदस्य मणिशंकर ने कहा कि किसी मुद्दे को लेकर कांग्रेस आंदोलन करने की स्थिति में नहीं है। समर्थन वापस लेने की बड़ी-बड़ी बातें करने के बाद भी कोई फैसला न लेने से कांग्रेसजन जनता के सवालों का जवाब देने की स्थिति में नहीं है। रथ लेकर जनता के सामने जाने का कार्यक्रम है। उनके सवालों का हम किस मुंह से जवाब देंगे। प्राण प्रसाद जायसवाल, जयशंकर ठाकुर, अशोक चौधरी ने उनका समर्थन किया।ड्ढr केएन त्रिपाठी ने कहा कि राज्यसभा चुनाव में यूपीए का उम्मीदवार हो तो कांग्रेस को समर्थन करना चाहिए। झामुमो ने जिस व्यक्ित को उम्मीदवार बनाया है, वह न तो उनके दल का कार्यकर्ता है और न ही बुद्धिजीवी या शिक्षाविद। आर्थिक लाभ के लिए कोई दल अगर किसी को उम्मीदवार बनाता है तो समर्थन देने से पहले कांग्रेस को पुनर्विचार करना चाहिए। डॉ गुलफाम मुजिबी, अनादि ब्रह्म और राजेश शुक्ला ने उनकी बात का समर्थन किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मधु