अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जल्द निर्णय नहीं हुआ, तो चार प्रतिशत महंगे होंगे खाद्यान्न रांची (सं)।

रअनाज और आलू-प्याजपर नये सत्र में कर की दर को लेकर राज्य के व्यवसायियों में असमंजस की स्थिति बनी हुई है। राज्य के वाणिज्य कर मंत्री स्टीफन मरांडी ने सदन में बजट पेशकिया था, जिसमें इस मामले को स्पष्ट नहीं किया गया है।ड्ढr बजट में मंत्री ने कहा था कि नये सत्र में कोई नया कर नहीं लगाया जायेगा, इससे व्यापारियों की परेशानी बढ़ गयी है। व्यापारियों का मानना है कि राज्य सरकार ने जिस प्रकार से नया कर नहीं लगाने की बात कही है, उससे स्पष्ट है कि आनेवाले सत्र में अनाज और आलू प्याज पर चार प्रतिशत का कर स्वत: लग जायेगा।ड्ढr अगर इन वस्तुओं को कर के दायरे में लाया गया, तो कई व्यापारियों को सेल्स टैक्स विभाग में अपना निबंधन कराना होगा। साथ ही उन्हें अपना माल रोड परमिट के सहारे ही मंगाना होगा। इसके लिए कम से कम 10 दिन की प्रक्रिया होगी। वहीं इन सामानों पर सीधा चार प्रतिशत कर जुड़ जायेगा और कीमत चार प्रतिशत बढ़ जायेगी।ड्ढr कालाबाजारी करनेवाले व्यापारी भी मौके का फायदा उठाने का प्रयास करेंगे। व्यापारियों का मानना है कि आम जनता पहले से ही महंगाई की मार झेल रही है, कर लगते ही उनपर और बोझ बढ़ जायेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: जल्द निर्णय नहीं हुआ, तो चार प्रतिशत महंगे होंगे खाद्यान्न रांची (सं)।