DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

धर्मशाला समेत कांगड़ा सील, सौ हिरासत में

निर्वासित तिब्बातियों की राजधानी धर्मशाला से ल्हासा तक का प्रस्ताविक मार्च भले ही पुलिस ने रोक लिया है लेकिन यहां से भड़की आग का धुंआ ल्हासा में भी उठने लगा है। इससे तिब्बती आंदोलनकारी बेहद उत्साहित हैं और अपनेआंदोलन को और तेज करने में जुट गए हैं। ज्वालाजी में ल्हासा मार्च के लिए जुटे सौ तिब्बतियों को न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। यात्री निवास को जेल में तब्दील किया गया है। इनके समर्थन में धरने पर बैठे अमेरिकी तथा यूरोप के करीब दर्जनभर विदेशियों को पुलिस ने छोड़ दिया है। बताया जाता है कि सभी विदेशी टूरिष्ट वीजा पर भारत आए हैं। पुलिस ने गृह मंत्रालय के निर्देश पर धर्मशाला सहित पूरे कांगड़ा जिले को सील कर दिया है और वाहनों को गहन जांच कर दी है। उधर चीन में ओलंपिक खेलों के मध्यनजर तिब्बत की आजादी का बिगुल फूंकने वाले पांचतिब्बती युवा संगठनों ने इस आंदोलन को तेज करने का निर्णय किया है। कई उत्साही युवों का कहना है कि वे चुपके से पैदल ही ल्हासा प्रस्थान कर सकते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: धर्मशाला समेत कांगड़ा सील, सौ हिरासत में