अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ऋण माफी घोषणा भी कांग्रेस के काम न आई : मोदी

उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि कृषि ऋण माफी की लुभावनी घोषणा के बावजूद पूर्वोत्तर राज्यों में कांग्रेस अपनी प्रतिष्ठा नहीं बचा पायी। त्रिपुरा और नगालैंड में जनता ने उसे धूल चटा दी तो मेघालय की जनता ने भी कांग्रेस के खिलाफ अपना फैसला सुनाया है। यह अलग बात है कि मेघालय में पार्टी ने संवैधानिक मर्यादाआें का उल्लंघन करते हुए अपनी सरकार बना ली। उन्होंने नगालैंड के नए मुख्यमंत्री नैफ्यू रियो को दूरभाष पर शुभकामनाएं देते हुए राज्य के समग्र विकास की उम्मीद जताई।ड्ढr ड्ढr उपमुख्यमंत्री श्री मोदी ने कहा कि कांग्रेस की छली प्रकृति के कारण ही लोकलुभावनी ऋण माफी की घोषणा भी उसके काम न आई। यह इस बात की आेर इंगित करता है कि आम जनता कांग्रेस के चरित्र को समझ चुकी हैे। आज देश के कुल दस राज्यों में भारतीय जनता पार्टी की सरकारें हैं तो आंध्र प्रदेश और महाराष्ट्र को छोड़कर सिर्फ छह छोटे राज्यों में ही कांग्रेस का शासन है। राजस्थान, मध्यप्रदेश, छतीसगढ़, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, आर गुजरात में भाजपा के मुख्यमंत्री विकास, सद्भावना और राष्ट्रीय एकता के नित नए अध्याय रच रहे हैं। इसके अलावा बिहार, उड़ीसा, पंजाब औेर नगालैंड की सरकारों में शामिल भाजपा इन राज्यों के पुनर्निर्माण में अपना भरपूर योगदान दे रही है।ड्ढr श्री मोदी ने कहा कि एनसीपी नेता पीए संगमा के नेतृत्व में मेघालय राज्य के 31 नवनिर्वाचित विधायकों ने राज्यपाल के समक्ष परेड की थी बावजूद उन्हें सरकार बनान का न्योता नहीं दिया गया। यह राजनीतिक मर्यादाआें को कलंकित करने वाली एक अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण घटना है। डगमारा पनबिजली परियोजनानिर्माण में कनाडा के विशेषज्ञ सेवा देंगेड्ढr पटना (हि.ब्यू.)। बिहार की महती पनबिजली परियोजना ‘डगमारा’ के निर्माण के लिए कनाडा के अंतर्राष्ट्रीय जल विद्युत विशेषज्ञ क्िलफोर्ड ब्राउन अपनी सेवा देंगे। वे सोमवार को बिहार आएंगे। कनाडा के अलावा अन्य कई देशों में श्री ब्राउन ने जल विद्युत के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य किए हैं। यही नहीं कनाडा की कई परियोजनाओं के सफलतापूवर्क निर्माण व संचालन का भी श्रेय उन्हें जाता है।ड्ढr ड्ढr बिहार स्टेट हाइड्रोइलेक्िट्रक कारपोरेशन (बीएचपीसी) के तत्वावधान में बनने वाली 126 मेगावाट की डगमारा पनबिजली परियोजना के लिए एडीबी के दिशा-निर्देशों पर काम चल रहा है और अंतर्राष्ट्रीय संस्था वैपकॉस इसके लिए डीपीआर तैयार कर रही है। राज्य सरकार ने डगमारा के लिए वर्ल्ड क्लास तकनीकी विशेषज्ञों की सेवा लेने की अपनी योजना के तहत ही श्री ब्राउन को आमंत्रित किया है। कनाडा के जल संसाधन व ऊर्जा प्रक्षेत्र के जाने माने इंजीनियर क्िलफोर्ड ब्राउन 17 मार्च को पटना आएंगे और अगले दिन सुपौल जिला स्थित परियोजना स्थल जाएंगे। यहां बीएचपीसी की तीन वर्षो के अंदर 42-42 मेगावाट क्षमता की तीन इकाइयों के निर्माण की योजना है। परियोजना के लिए अत्याधुनिक मशीनों की आपूर्ति भी शुरू हो चुकी है। एशियन डेवलपमेंट बैंक (एडीबी) ने इसके निर्माण के प्रस्ताव को हरी झंडी दे दी है और 400 करोड़ रुपए से अधिक की आर्थिक सहायता देने पर भी सैद्धांतिक रूप से सहमत है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ऋण माफी घोषणा भी कांग्रेस के काम न आई : मोदी