DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सरबजीत का डेथ वारंट जारी, १ को होगी फांसी!

भारतीय नागरिक सरबजीत सिंह को लाहौर जेल में एक अप्रैल को फांसी पर लटका दिया जायेगा। सरबजीत को वर्ष 10 में पाकिस्तान में हुए चार बम धमाकों में शामिल होने के अपराध में पाकिस्तानी कोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई है। उर्दू अखबार ‘डेली एक्सप्रेस’ ने रविवार को खबर दी है कि लाहौर स्थित लखपत जेल के अधिकारियों ने सरबजीत को मौत की सजा दिये जाने का वारंट प्राप्त कर लिया है, जहां वह पिछले 17 सालों से बंद है। उसको आगामी एक अप्रैल को फांसी दे दी जायेगी।ड्ढr इससे पहले राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ ने तीन मार्च को सरबजीत की क्षमा याचना की अर्जी को नामंजूर कर दिया था। पाक दावा करता है कि सरबजीत वास्तव में मनजीत है। उसकी क्षमा याचना की अर्जी एक अन्य भारतीय कैदी कश्मीर सिंह की अर्जी के साथ मुशर्रफ को भेजी गयी थी। पाक की जेलों में 35 सालों की कैद काट चुकेकश्मीर सिंह की मौत की सजा माफ कर दी गई थी। सरबजीत की फांसी का दिन तय कर दिए जाने की आधिकारिक तौर पर अभी पुष्टि नहीं हो सकी है।ड्ढr सरबजीत को यह सजा लाहौर और मुल्तान में हुए बम धमाकों में शामिल होने के अपराध में दी गई है। इन धमाकों में 14 लोग मारे गए थे। लेकिन सरबजीत के परिवारवालों ने उसके जासूस होने से इनकार किया है, जैसा कि पाकिस्तान द्वारा दावा किया जाता रहा है। परिजनों का कहना है कि वह गलती से पाकिस्तानी सीमा में चला गया था। सरबजीत ने क्षमा याचना की अर्जी में राष्ट्रपति मुशर्रफ से अपने पूरी तरह निर्दोष होने और गलत समझ लिए जाने के आधार पर अपनी रिहाई की अपील की थी। आधकारिक सूत्रों के मुताबिक, राष्ट्रपति मुशर्रफ ने उसकी अर्जी को पूरी तरह अवलोकन करने के बाद नामंजूर कर दिया, क्योंकि उसके खिलाफ आरोपों की पुष्टि हो चुकी थी और उसे अदालत ने मौत की सजा सुना दी थी। पाकिस्तान सुप्रीम कोर्ट ने भी मार्च 2006 में सरबजीत की अर्जी को ठुकरा दिया था। राष्ट्रपति द्वारा अर्जी नामंजूर किए जाने के बाद गृह मंत्रलय ने पंजाब प्रांत की सरकार को कहा है कि वह सरबजीत की फांसी की सजा को पूरा करने के लिए कदम उठाए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सरबजीत का डेथ वारंट जारी, १ को होगी फांसी!