अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पिंजर मेंकैद हैं दिग्गज

हलाते हैं दिग्गज नेता। मगर लोकसभा चुनाव में ऐसे फँसे हैं कि अपने पिंजड़े यानी संसदीय क्षेत्र से बाहर जाकर पार्टी का प्रचार तक नहीं कर पा रहे। गोरखपुर और बस्ती मण्डल की सीटों पर इस बार करीब आधा दर्जन दिग्गज चुनाव लड़ रहे हैं। इनमें केन्द्रीय मंत्री एवं कांग्रेस नेता महावीर प्रसाद बांसगाँव, बसपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वामी प्रसाद मौर्य कुशीनगर, भाजपा के योगी आदित्यनाथ गोरखपुर, पूर्व विधानसभाध्यक्ष एवं सपा नेता माताप्रसाद पाण्डेय डुमरियागंज, कांग्रेस के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष एवं पूर्व मंत्री जगदम्बिका पाल डुमरियागंज, तथा संसदविद एवं वरिष्ठ सपा नेता मोहन सिंह देवरिया से लोकसभा का चुनाव लड़ रहे हैं। इनमें से कोई नेता परिचय का मोहताज नहीं। जनता में उनकी पैठ है। वे जहाँ जाएँ, वहाँ अपने व्यक्ितत्व और भाषण से असर डाल सकते हैं मगर इस चुनाव में इनमें केवल दो ही अन्य क्षेत्रों में पार्टी के लिए काम आ रहे हैं। एक बसपा के स्वामी प्रसाद मौर्य और दूसर भाजपा के योगी आदित्यनाथ।ड्ढr योगी को भाजपा ने पूर्वाचल का स्टार प्रचारक बना रखा है। वह गोरखपुर, बस्ती मण्डल और आजमगढ़ मण्डल के ज्यादातर लोकसभा क्षेत्रों में जा कर पार्टी उम्मीदवारों के लिए सभा कर चुके हैं। इसकी एक वजह यह भी है कि गोरखपुर-बस्ती मण्डल की ज्यादातर सीटों पर भाजपा ने योगी के कहने पर ही प्रत्याशी उतार हैं। लिहाजा उनके लिए अपने प्रत्याशियों के प्रचार में जाना जरूरी भी है। इधर स्वामी प्रसाद मौर्य भी कुशीनगर से वक्त निकाल कर गोरखपुर और बस्ती मण्डल के अलावा बलिया तक जा कर बसपा प्रत्याशियों के लिए सभा कर चुके हैं। बसपा का प्रदेश अध्यक्ष होने के नाते उनकी डिमाण्ड भी है। इन दोनों को छोड़ बाकी प्रत्याशी अपने चुनाव क्षेत्र में उलझ कर रह गए हैं। महावीर प्रसाद जब भी चुनाव आता है अपने क्षेत्र में ही उलझे रहते हैं। इस बार भी ऐसा ही है। यही हाल मोहन सिंह, माता प्रसाद और जगदम्बिका पाल का भी है। वे क्षेत्रीय चक्रव्यूह से निकल नहीं पा रहे हैं। यही हाल रहा तो 16 अप्रैल तक ये अपने ही क्षेत्र में रहेंगे। उसके बाद ही पार्टी जहाँ भेजेगी जाएँगे।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पिंजर मेंकैद हैं दिग्गज