अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रभारी डीएम को लोगों ने घेरा

डीडीसी सह प्रभारी डीएम तथा तरियानी के बीडीआे के बीच गुरुवार को तरियानी प्रखंड कार्यालय में निरीक्षण को लेकर जमकर नोकझोंक हुई। इस घटना से आक्रोशित स्थानीय लोगों ने प्रखंड कार्यालय परिसर में डीडीसी का घेराव कर हंगामा किया। बाद में पुलिस के हस्तक्षेप से मामला शांत हुआ और उसके संरक्षण में डीडीसी को प्रखंड कार्यालय से बाहर निकाला गया। बीडीआे संजय कुमार ने डीडीसी पर जान से मारने तथा सेवा से हटवाने की साजिश कराने का आरोप लगाते हुए प्राथमिकी दर्ज कराने की बात कही है।ड्ढr ड्ढr उधर डीडीसी ने बीडीआे पर निरीक्षण में बाधा पहुंचाने तथा गलत व्यवहार करने का आरोप लगाया है। जानकारी के अनुसार गुरुवार को डीडीसी सह प्रभारी डीएम मधु गुप्ता कुछ अधिकारियों के साथ तरियानी प्रख्ांड कार्यालय का निरीक्षण करने वहां पहुंचे। निरीक्षण के क्रम में कुछ मुद्दों को लेकर बहस शुरू हुई जो नोकझोंक में बदल गई। इसके बाद वहां स्थानीय लोगों ने पहुंचकर डीडीसी पर बीडीआे को प्रताड़ित करने का आरोप लगाते हुए उनका घेराव कर जमकर हंगामा किया। स्थानीय पुलिस ने पहुंच कर लोगों को शांत किया तथा डीडीसी को वहां से बाहर निकाला। इस संबंध में बीडीआे ने बताया कि उन्होंने डीडीसी के विरुद्ध आयुक्त के यहां पूर्व में शिकायत दर्ज करायी थी जिसकी जांच चल रही है। इसी से आक्रोशित होकर वे उन्हें प्रताड़ित करने की नीयत से जानबूझकर निरीक्षण का बहाना बनाकर यहां आये थे। यहां डीडीसी ने उन्हें काफी भला-बुरा कहा। उन्होंने बताया कि अनुसूचित जाति का होने के कारण उन्हें वे बराबर प्रताड़ित करते हैं तथा जान से मारने एवं नौकरी से हटाने की साजिश रच रहे हैं। इस संबंध में उन्होंने तरियानी थाना में भी प्राथमिकी दर्ज करायी है।इधर डीडीसी मधु गुप्ता ने बताया कि पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत जब वे तरियानी प्रखंड कार्यालय का निरीक्षण करने पहुंचे तो बीडीआे ने निरीक्षण में बाधा पहुंचायी तथा कुछ लोगों को उकसा कर हंगामा कराया।ड्ढr ड्ढr वेतन के लिए कर्मियों का हंगामा, धरनाड्ढr मुजफ्फरपुर (हि.प्र.)। होली पर भी वेतन नहीं मिलने से गुस्साये सदर अस्पताल के नर्स और स्वास्थ्य कर्मचारियों ने गुरु वार को जमकर हंगामा किया और सीएस कार्यालय के सामने धरने पर बैठ गए। हंगामे और कार्य बहिष्कार से घंटों सैकड़ों मरीजों को बगैर दिखाये लौटना पड़ा। हालांकि पूर्व कुछ कटे पुर्जे को डॉक्टरों ने देखा। आक्रोशित कर्मियों का कहना था कि फरवरी का वेतन नहीं मिला। सरकार की आेर से राशि मिल चुकी है। लेकिन सीएस कार्यालय की उदासीनता से वेतन नहीं मिला है। दूसरी आेर होली के लिए अग्रिम राशि के लिए आवेदन पर भी विचार नहीं किया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: प्रभारी डीएम को लोगों ने घेरा