अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नामी स्कूल, नामी डॉक्टर बड़ा खतरा

पूर्व विस अध्यक्ष इंदर सिंह नामधारी ने कहा है कि नामी डॉक्टर और नामी स्कूल बहुत बड़ा खतरा हैं। अभिभावकों को स्कूल के नामों के पीछे नहीं दौड़ना चाहिए। बच्चों को यह सिखाने की जरूरत है कि वे किसी भी स्कूल में पढ़कर अच्छा कर सकते हैं। ज्यादा फीस, अच्छे स्कूल की अवधारणा गलत है। बच्चों को साक्षर बनने के साथ-साथ सरसता का भाव भी भरना चाहिए तभी आदर्श परिवार का सृजन होगा। वह गुरुवार को शेफायर इंटरनेशनल स्कूल द्वारा आयोजित प्रभावशाली अभिभावक विषयक परिचर्चा में बोल रहे थे। बच्चों द्वारा आत्महत्या किये जाने के संबंध में नामधारी ने कहा कि सितार के तार को इतना न खींचे कि वह टूट जाये, और उसे इतना ढीला न करें कि उससे संगीत की आवाज आना बंद हो जाये। आधुनिकता के इस दौर में बच्चों को संस्कार के साथ-साथ नैतिकता का भी पाठ पढ़ाया जाना चाहिए। घर में मातृभाषा में बोलने से बच्चों का अभिभावक के साथ प्राकृतिक संबंध स्थापित होगा। स्वामी शशांकानंद जी ने कहा कि वर्तमान में बच्चों की सृजनात्मक शक्ित को बढ़ाने की जरूरत है। लड़की का जन्म लेना दुर्भाग्य नहीं है। राज्यसभा के सांसद अजय मारू ने कहा कि ग्रामीण बच्चों को एक मंच प्रदान करने की जरूरत है। वे शहरी बच्चों से किसी भी मामले में कम नहीं हैं। देश केीसदी छात्र कॉलेज नहीं जा पाते हैं। शिक्षा के दबाव के कारण 0 फीसदी बच्चे आत्महत्या करते हैं। सहायक इनकम टैक्स कमिश्नर विस्मीता तेज ने कहा कि बच्चों के अंदर किसी को आदर करने की शिक्षा देनी चाहिए। शिक्षक और अभिभावक ही बच्चों के व्यक्ितत्व को सही तरीके से निखार सकते हैं। इस अवसर पर स्कूल के शिक्षकों के साथ अभिभावक भी उपस्थित थे। े

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नामी स्कूल, नामी डॉक्टर बड़ा खतरा