अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आज के जुमे पर अमर अकबर, एंथनी सब खुश

यह शुक्रवार मनमोहन देसाई की ब्लाकबस्टर फिल्म ‘अमर अकबर एंथनी’ की याद ताजा कर देगा। धार्मिक कै लेंडरों के मुताबिक, 21 मार्च को हिंदुआें की छोटी होली, मुसलमानों के पैगंबर साहब की जन्म तिथि व पुण्यतिथि, ईसाइयों का गुड फ्राइडे (रविवार को ईस्टर) और पारसियों का नवरोज, ये सारे त्योहार एक साथ पड़ रहे हैं। एक ही दिन त्योहारों के इस अद्भुत समागम से लोगों का मिजाज इतना खुशगवार हो गया कि राजधानी समेत पूरे राज्य के तमाम दफ्तरों में गुरुवार को ही अटेंडेंस में 10 से 15 फीसदी की गिरावट दर्ज की गयी। क्या रांची, जमशेदपुर और क्या धनबाद, वहां के तकरीबन सभी सरकारी-गैरसरकारी दफ्तरों में उपस्थिति नगण्य रही। राज्य में त्योहारों व पकवानों का चोली-दामन का साथ है। अब रांची के प्रोफेसर रघुनाथ यादव को ही घर लें। वहां लजीज पकवान बनने की तैयारी तीन दिन पहले से चल रही है। घर में घी तैयार हो गया है, खोये का आर्डर दे दिया गया है और मेवे धोकर सुखा लिए गये हैं। अब बस कड़ाही में डालकर तरह-तरह के पकवान तल लेने की ही देर है। दो बच्चों की कामकाजी मां डोरंडा 46 वर्षीया सविता बताती हैं कि इस बार उनके इलाके में लोगों ने मिलकर एक साथ होली मनाने की तैयारी की है। सभी धमरे के अनुयायी शुक्रवार को आपस में मिलकर जश्न मनायेंगे। कोकर के मसीही धर्मानुयायी मनील कुजूर और सिंथिया के घर में सूखे मेवों और मार्जीपान के साथ इस्टर के अंडे तैयार किये जा रहे हैं। 45 वर्षीया गृहणी सिंथिया बताती हैं कि ईस्टर नये जीवन का जश्न है। यह क्रिसमस से ज्यादा महत्वपूर्ण है। गुड फ्राइडे के बाद हम अपने मित्रों परिजनों के साथ ईस्टर संडे पर एक शानदार भोज का आयोजन करेंगे। वहीं अनूप मुंडा और मनोज बताते हैं कि 40 दिनों तक सिर्फ शाकाहारी भोजन करने की परंपरा के निर्वाह के बाद आने वाले रविवार को ईस्टर पर हम लोग लजीज व्यंजन खायेंगे।ड्ढr राजधानी रांची की सभी बड़ी मिठाई की दुकानों में घुसते ही शुद्ध देशी घी में पक रहे सूजी के हलवे की और अन्य मिठाइयों की खुशबू आपके मुंह में पानी ला देगी है। 45 वर्षीया नूरजहां खातून परिवार के लिए यह पकवान बना रही हैं। वह कहती हैं, ‘मैं इसे बनाने में पारंगत हूं। मेरे परिवार को जितना इसे खाने में मजा आता है , उतना ही मुझे बनाने में आता है।’ लेकिन वह यह भी कहती हैं कि ईद-ए-मिलाद वास्तव में सिर्फ उत्सव मनाने का मौका नहीं है, बल्कि यह पैगंबर मोहम्मद साहब की जन्मतिथि व पुण्यतिथि भी है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: आज के जुमे पर अमर अकबर, एंथनी सब खुश