DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

14 साल तक शौचालय में सिमटा रहा विकास

गरीबी और बेबसी इंसान को हैवानियत की किस पराकाष्ठा पर लाकर खड़ी कर देती है इसकी दर्दभरी दास्तान 14 वर्ष से एक शौचालय में नारकीय जीवन बिता रहे विकास महंती से सुनी जा सकती है। उड़ीसा में केन्द्रपाडा जिले के कपलेश्वर गांव के 34 वर्षीय विकास की जिन्दगी लंबे समय तक छह फुट लंबे और छह फुट चौडे शौचालय में सिमटी रही। जानवर से भी बदतर बनकर रही गई उसकी जिन्दगी। वह वहीं सोता, वहीं खाता, वहीं नहाता और वहीं शौच करता रहा। गौरतलब बात यह है कि यह गांव जिलाधिकारी के निवास से महज सौ मीटर की दूरी पर स्थित है। विकास को किसी गलती के लिए यह सजा नहीं मिली थी। वह तो अच्छा खासा तीसरी कक्षा को पढ़ाई कर रहा था कि इस दौरान किस्मत ने पलटा खाया और वह अपना दिमागी संतुलन खो बैठा। वह हमला करके गांव के लोगों को परेशान करने लगा। अपने परिवार को दो वक्त की रोटी देने में असमर्थ पांच बच्चों के पिता बमन चरण महंती विकास का उचित इलाज नहीं करा पाए। परिजनों और कोई उपाय नहीं सूझने पर विकास को शौचालय में कैद करके बाहर से ताला जड़ दिया। छोटी सी जगह में लंबे समय तक कैद रहने और इलाज नहीं होने के कारण विकास न तो ठीक से बोल पाता है और न चल सकता है। हालांकि परिजन अब उसे इलाज के लिए कटक के एससीबी मेडिकल कालेज लेकर आए हैं, लेकिन अब उस पर सब कुछ बेअसर हो चुका है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: 14 साल तक शौचालय में सिमटा रहा विकास