अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भाकपा देश पर नहीं थोपेगी मध्यावधि चुनाव : वर्धन

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) के महासचिव ए बी वर्धन ने संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन सरकार की राजनीतिक और आर्थिक नीतियों की शुक्रवार को कड़ी आलोचना की, पर साथ ही संकेत दिया कि उनकी पार्टी सरकार को गिराने की हद तक नहीं जाएगी। भाकपा की 23 से 27 मार्च तक होने वाली 20 वीं राष्ट्रीय कांग्रेस से पहले पत्रकारों के साथ बातचीत में उन्होंने साफ किया कि संप्रग सरकार को समर्थन की समीक्षा करना बैठक के एजेंडे में शामिल नहीं है। भाकपा नेता ने संप्रग सरकार की अमेरिका समर्थित विदेश नीति और महंगाई बढ़ाने वाली आर्थिक नीति पर भी चिंता जताई। विदेश नीति का कड़ा विरोध करते हुए उन्होंने दलील दी कि सरकार सामरिक भागीदारी के जरिए अमेरिकी सेना से निकटता बढ़ा रही है। उन्होंने इजरायल के साथ सैन्य संबंधों पर भी हैरत जताई। देश पर मध्यावधि चुनाव थोपे जाने की संभावना से इन्कार करते हुए उन्होंने कहा कि वैसे ही आम चुनाव एक वर्ष दूर हैं और सभी दलों को इसके लिए तैयार रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि भाकपा भारतीय जनता पार्टी जैसी सांप्रदायिक शक्ितयों से उत्पन्न खतरे को कम नहीं आंक रही है। उन्होंने कहा कि ए शक्ितयां केन्द्र की सत्ता में आने की उम्मीद कर रही हैं लेकिन उसका मात्र ख्याली पुलाव हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: भाकपा देश पर नहीं थोपेगी चुनाव : वर्धन