अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जनता को खसम बनाय लियो..होली में

दृश्य एक-विक्रमादित्य मार्ग पर बड़ा जुलूस निकला है। ढन-ढना-ढन...नगाड़े की आवाज तेज.. और तेज होती जा रही है। रंग-पुते चेहरे। कोई खुद की बाँसुरी भी ले आया है तो कोई झुनझुनिया। गुलाल उड़ रहा है। ऊपर से नीचे तक रंग से सराबोर नेताजी ने कहा-यह है यूएनपीए का रंग। अबकी ऐसा चढ़ेगा कि उतरेगा नहीं। भीड़ ने वाह-वाह...किया। नेताजी भी रंग में आ गए। नगाड़ा लगा जोर से बजने। यह नगाड़ा अकेले बजने वाला नहीं। पिछली बार की होली में तो सिर्फ साइकिल पर ही लद गया था..लेकिन इस बार तो यूएनपीए की होली है। सो.नेताजी ने जोर से आवाज लगाई...जोगी रा...चौटाला जी आप भी आओ.नायडू आप भी। लगाओ जोर से थाप..बजाओ नगाड़ा। एक तरफ नायडू..दूसरी ओर चौटाला..धमाधम.धम धम..भंग की तरंग में जुलूस को रंग से सराबोर करते छोटे भइया ने ..आवाज लगाई ...बजे नगाड़ा जोर से..गूँज जाए कालीदास तक...। वाह..वाह..भीड़ ने नृत्य तेज कर दिया। नेताजी बोले .और तेज..इस बार सब अपने हैं..कोई लंघी नहीं मारेगा....विधानसभा में धोखा खा गए लोकसभा में धोखा नहीं होना चाहिए..बजाओ नगाड़ा तेज....हाथी वालों के नगाड़े से तेज.. अब ठीक..और तेज। इतने में जयाप्रदा दोनों हाथ में रंग लिए मुलायम के चेहरे को रंगने के लिए उतावली हो जाती हैं..लेकिन आजम खाँ बीच में ही उन पर हरा रंग उड़ेल देते हैं..अरे रे रे ये किसने डाल दिया रंग। आवाज तेज हो जाती है..रंग बरसे भीगे चुनर वाली रंग बरसे..शिवपाल उछले..अमिताभ भइया का गाना हो रआे है। अमिताभ भइयो आ जाते तो और मजा आता। तभी कार्यकताआें की एक मंडली कुछ नेताआें को रंगने लगती है। इटावा से आए लोग चिल्लाए कि इतना कीमती रंग बरबाद कर दआें। अखिलेश भैय्या के लगाआे तभी रंग स्वारथ होगो।ड्ढr दृश्य दो-कांग्रेस मुख्यालय..रीता बहगुणा जोशी, प्रमोद तिवारी, जगदंबिका पाल, रणजीत सिंह जूदेव की टोली फाग गा रही है.. प्रवक्ताआें की लम्बी चौड़ी टोली मंजीरा भाँज रही है। जनता का चित लुभाय गए राहुल भैय्या आय.. राहुल , प्रियंका खूब धूम मचाय रहे यूपी मा.. पाल बीच-बीच में गुलाल उछाल रहे हैं.. इसी बीच सत्यदेव त्रिपाठी भी इसी गायक मंडली में शामिल हो गए.. सलमान खुर्शीद और अखिलेश दास अपनी अलग मंडली में बैठे कुछ कनफुसिया रहे थे.. सत्यदेव को ज्यांे ही ताली बजा-बजा कर रीता बहुगुणा के साथ फाग गाते देखा तो सलमान खुर्शीद धीरे से उस मंडली के पास आए और आँखें दिखा कर सत्यदेव को अपनी मंडली की तरफ आने का इशारा किया.. क्यों सत्यदेव तुम तो पूरे दलबदलू हो.. इधर अपनी टीम के बीच क्यों नहीं ताली बजाते हो.. सत्यदेव सलमान मंडली के साथ फाग गाने लगे, चिदम्बरम ने बजटिया गुलाल उड़ाय दियो चिदम्बरम ने.. हर तरफ उड़त गुलाल तिरंगा किसान खूब मौज मनाय रह्यो चिदम्बरम ने.. अरे देखा अनर्थ किए डाल रहे हैं अनर्थ ..हाय दादा..सोनिया जी का नाम ही नहीं ले रहे हैं.. अनुशासनहीनता कर रहे हैं.. सलमान चिल्लाने लगे.. पाल रीता जोशी से फुसफुसाए -सोनियाजी का नाम भी जोड़ दो नहीं तो यह सब हाईकमान से शिकायत कर देंगे.. रीता जी यह गा कर नाचने लगीं, सोनियाजी ने चमत्कार कराय दिया। सोनिया ने.. तब तक अखिलेश दास की मंडली मजा लेनी लगी.. देखो तो इन लोगों को.. कहीं फाग गाकर ताली बजा कर वोट मिलते हैं। नोट खर्च करना पड़ता है नोट। अब वोट पाना है तो वोटर को भी तो कुछ प्रसाद पुष्प अर्पित करो. देखो हम कर रहे हैं कि नहीं.. यह सब ताली बजा कर वोट पाना चाहते हैं।ड्ढr दृश्य तीन-भाजपा मुख्यालय-ढोल की आवाज बहुत दूर से सुनाई दे रही है। कल्याण सिंह, रमापति राम त्रिपाठी, आेम प्रकाश सिंह, हृदय नारायण दीक्षित, सूर्यप्रताप शाही, नागेन्द्र नाथ रंग में डूबे फाग गा रहे हैं..आडवाणी बेड़ा पार लगाएँगे आडवाणी हो.. भगवा खूब उड़ाएँगे आडवाणी हो..। पीछे लालजी टंडन, कलराज मिश्र, केशरीनाथ त्रिपाठी चुपचाप बैठे हैं। रमापति राम त्रिपाठी चिल्लाए- कलराज जी, केशरी जी, टंडन जी जरा तेजी से गाइये.. बसपा और सपा की फाग फीकी पड़ जाए.. क्यों गाए हम..मैं तो नहीं गाउँगा..काहे गाऊँ..बिहार भेजवा दिया और कह रहे हैं गावो.. कलराज जी गुस्साए। टंडन बुदबुदाए अभी ढोलक फोड़ डालूँगा.. अरे यहाँ आकर बैठ गया हूँ बस यही बहुत है..नेता विपक्ष था तब विधानसभा में सरकार काँपती थी। बताआे वह भी छीन लिया। अरे कलराजजी, टंडनजी यह सब छोड़िए। पार्टी को जितवाइए। टंडन मान गए। सभी गाइए नेता सिर्फ अटल बिहारी हैं, बाकी सब गगन बिहारी हैं। रमापति राम त्रिपाठी ने कहा..टंडन जी..जरा राजनाथ सिंह का नाम भी जोड़ दीजिए..अपने अध्यक्ष जी हैं..टंडन जी मुँह में भरा पान पिच्च से थूक देते हैं..अब तुम लोग गाआे..हम तो चले..।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: जनता को खसम बनाय लियो..होली में