अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चुनी महिलाआें के मामले में हम हैं दुनिया में अव्वल

महिलाआें को संसद और विधानसभाआें में 33 फीसदी आरक्षण देने की पहल भले ही संसद की देहरी पर ही क्यों न अटकी पड़ी हो, लेकिन देश को इस बात पर गर्व हो सकता है कि उसके यहां निर्वाचित महिला प्रतिनिधियों की तादाद दुनिया के अन्य देशों के कुल योग से भी ज्यादा है। पंचायती राज मंत्रालय की मध्यकालिक समीक्षा ‘पंचायतों की स्थिति 2006-07’ के मुताबिक, ‘हमारे पंचायती राज संस्थानों में 10 लाख से कम महिला प्रतिनिधि नहीं हैं। भले ही तमाम मोचरे पर बिहार क्यों न पिछड़ा हो लेकिन पंचायतों में महिला प्रतिनिधित्व के मामले में वह 54 फीसदी के साथ देश में अव्वल है। राज्य में पंचायती राज संस्थानों में महिलाआें के लिए 50 फीसदी आरक्षण की व्यवस्था है।’ 73वें संविधान संशोधन (1में पंचायतों को संवैधानिक दर्जा देते हुए इनमें महिलाआें के लिए 33 फीसदी सीटें आरक्षित की गई थीं। महिलाआें पर लघु फिल्मों के प्रदर्शन के अवसर पर पंचायती राज मंत्री मणिशंकर अय्यर ने कहा, ‘देश में निर्वाचित महिला प्रतिनिधियों की संख्या शेष दुनिया से ज्यादा है।’ बिहार के नवादा जिले की लोहारपुरा पंचायत की मुखिया वीणा देवी हैं।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: चुनी महिलाआें के मामले में हमदुनिया में अव्वल