अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गुड़गांव में दिल्ली के एसीपी राजबीर की हत्या

दिल्ली पुलिस के एनकाउंटर स्पेशलिस्ट एसीपी राजबीर सिंह की गुड़गांव में हत्या कर दी गई है। राजबीर सिंह क्राइम ब्रांच में एसीपी के पद पर थे। प्रोपर्टी डीलर विजय भारद्वाज ने आत्मसमर्पण के बाद एसीपी की हत्या की बात कबूल ली है। एसीपी राजबीर सिंह को जेड प्लस सिक्योरिटी मिली हुई है लेकिन अभी तक यह पता नहीं लग पाया है कि आखिर वह बिना सिक्योरिटी के गुड़गांव क्यों गए थे। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि यह घटना सोमवार रात लगभग साढ़े दस बजे उस समय हुई जब राजबीर सिंह और विजय एंड एसोसिएट्स के मालिक विजय भारद्वाज के बीच किसी प्रोपर्टी को लेकर जोरदार विवाद हुआ था। इस दौरान विजय ने उनकी गोली मार कर हत्या कर दी। गौरतलब है कि ये दोनों काफी लम्बे समय से दोस्त रहे थे। हत्या के बाद विजय ने खुद ही थाने में जाकर आत्मसमर्पण कर दिया। पुलिस विजय से पूछताछ कर रही है। विजय ने बताया है कि राजबीर सिंह उसे पिछले छह माह से अंजाम भुगतने की धमकी दे रहे थे। बताया जाता है कि दोनों के बीच करोड़ों रुपए की प्रोपर्टी को लेकर विवाद था। सुपर कॉप के नाम से मशहूर राजबीर सिंह दिल्ली पुलिस में बतौर उपनिरीक्षक भर्ती हुये थे और उन्होंने करीब 56 एनकाउंटर किए थे, जिसके फलस्वरूप उन्हें बारी से पहले पदोन्नति मिली थी। राजबीर सबसे कम उम्र में पदोन्नत होकर एसीपी बने थे। 1में उन्हें स्पेशल सेल में भेज दिया गया था। राजबीर ने संसद और लालकिले पर हमले की गुत्थी को सुलझाने में भी अहम भूमिका निभाई थी। उनका नाम अंसल प्लाजा एनकाउंटर के बाद हर किसी की जुबान पर चढ़ गया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: गुड़गांव में दिल्ली के एसीपी राजबीर की हत्या