अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

याद आये बिहार सरकार को राजेन्द्र बाबू

बिहार प्रशासन की लापरवाही के कारण भारत के पहले राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद के सम्मान में बना स्मारक जुआरियों और नशा करने वालों का अड्डा बना गया था। लेकिन अब इस स्मारक को भी राजघाट की तर्ज पर खूबसूरत बनाया जाएगा। बिहार सरकार की योजना है कि 1में गंगा के पास बंश घाट पर बनाए गए राजेन्द्र उद्यान को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के स्मृति-स्थल राजघाट की तरह हरा-भरा और दर्शनीय बनाया जाए। राज्य के विर्निमाण मंत्री मोनाजिर हसन ने बताया कि हम इस बारे में योजना बना रहे हैं। भारत के पहले राष्ट्रपति राजेन्द्र प्रसाद के स्मारक को बेहतर बनाने के लिए हमने बिहार के बाहर की एक परार्मश एजेंसी को नियुक्त किया है। गौरतलब है कि इस महीने की शुरूआत में विधानसभा में इस स्मारक की दुर्दशा को लेकर विपक्ष ने सरकार से जबाव तलब किए। इस पर विर्निमाण मंत्री ने सदन को आश्वासन दिया था कि राजेन्द्र प्रसाद के स्मारक को राजघाट की तर्ज पर ही विकसित किया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: याद आये बिहार सरकार को राजेन्द्र बाबू