DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संक्षिप्त खबर

सहकारी बैंककर्मियों की बेमियादी हड़ताल शुरू जिला सहकारी बैंककर्मी 25 मार्च से बेमियादी हड़ताल पर चले गये। झारखंड राज्य सहकारी बैंक यूनियन के महासचिव शंभू चरण कर्मकार ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि यूनियन और प्रबंधन के बीच बातचीत विफल होने के बाद 25 मार्च से हड़ताल पर जाने का निर्णय लिया गया था। मंगलवार को जिन जिलों मंे स्थानीय नगर निकायों के चुनाव हुए, वहां सरकारी कार्यालयों में छुट्टी थी। बाकी जिलों के सहकारी बैंककर्मी हड़ताल पर रहे। बुधवार को राज्य के सभी सहकारी बैंककर्मी हड़ताल पर रहेंगे। कर्मकार ने बताया कि राज्य के तीन जिला सहकारी बैंकों में 1से ही पुराना वेतनमान लागू है। शेष बैंकों में पुराने वेतनमान को लागू कराना यूनियन की मुख्य मांग है। सरकार की टाल-मटोल नीति के कारण यूनियन को बाध्य होकर बेमियादी हड़ताल पर जाने का निर्णय लेना पड़ा।ड्ढr हॉस्पीटल एंड नर्सिग होम एसोसिएशन की नयी कार्यसमितिड्ढr रांची। एसोसिएशन ऑफ हॉस्पीटल एंड नर्सिग होम ऑफ झारखंड की कार्यसमिति की बैठक 24 मार्च को राज अस्पताल में हुई। इसमें 2008-10 सत्र के लिए कार्यसमिति का चुनाव हुआ। मोदी सेवा सदन के अध्यक्ष राजकुमार केडिया को अध्यक्ष, योगेश गंभीर को सचिव, मो तनीवर अंसारी (अपोलो) को उपाध्यक्ष, डॉ उमर को संयुक्त सचिव, मो हल्लुमुद्दीन को कोषाध्यक्ष, गुरुनानक अस्पताल के सदस्य को पदेन सचिव, ओम प्रकाश सर्राफ को प्रदेश प्रवक्ता बनाया गया है। कार्यसमिति में डॉ करुणा झा, डॉ शब्बीर आलम, डॉ एके उपाध्याय और डॉ जेडेक को शामिल किया गया।ड्ढr अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ ने छुट्टी में कटौती की आलोचना कीड्ढr रांची। झारखंड राज्य अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ ने छठे वेतन आयोग की रिपोर्ट निर्धारित समय पर केंद्र सरकार को सौंपे जाने का स्वागत किया है। हालांकि महासंघ ने छुट्टियों में कटौती, संपूर्ण महंगाई भत्ते की राशि को मूल वेतन में नहीं जोड़ने तथा नयी नियुक्ित ठेके पर करने आदि की अनुशंसा पर क्षोभ व्यक्त किया है। महासंघ के महासचिव धर्मराज तिवारी ने राज्य सरकार से अविलंब फिटमेंट कमेटी के गठन की मांग की है। विस्थापन और पलायन का मामला उठा अधिवेशन मेंड्ढr रांची। हैदराबाद में हो रहे भाकपा के अधिवेशन में राज्य सचिव सह सांसद भुवनेश्वर प्रसाद मेहता ने राज्य में विस्थापन और पलायन का मामला उठाया। पार्टी के सहायक सचिव केडी सिंह के मुताबिक इसपर काफी चर्चा हुई। श्री मेहता ने कहा कि यहां से आदिवासी लड़कियों का पलायन बड़ी संख्या में हो रहा है। उनसे मुंबई, दिल्ली सहित अन्य महानगरों में घरेलू नौकरानी का काम करवाया जा रहा है। उन्हें प्रताड़ित किया जाता है। उन्होंने इसे मुद्दा बनाये जाने की वकालत की।ड्ढr अनुशंसित हेडमास्टरों के कागजात की जांच तीन कोड्ढr रांची। राजकीयकृत माध्यमिक विद्यालयों में हेडमास्टर के रिक्त पदों पर सीधी नियुक्ित के लिए अनुशंसित अभ्यर्थियों के कागजात की जांच अब तीन अप्रैल को होगी। जांच के लिए 25 मार्च की तिथि निर्धारित थी। निदेशक माध्यमिक शिक्षा ने अपरिहार्य कारणों से जांच की तिथि आगे बढ़ा दी है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: संक्षिप्त खबर