अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सूबे में 98 फीसदी अपराधी ग्रेजुएट

राज्य में अपराध का रूप बदल चुका है जबकि कानून बाबा आदम के जमाने का है। अपराधियों में औसतन प्रतिशत ग्रेजुएट हैं। विधान परिषद में मंगलवार को वित्तीय वर्ष 2008-0े आय-व्ययक पर विभागवार वाद-विवाद पर सरकार की ओर से जवाब देते हुए ऊर्जा मंत्री विजेन्द्र प्रसाद यादव ने कहा कि देश में अपराध के मामले में बिहार दसवें नंबर पर है। उन्होंने यह भी दावा किया कि किसी भी अपराधी को सरकार का संरक्षण नहीं है।ड्ढr ड्ढr साथ ही यह भी माना कि राज्य में शैक्षणिक, सामाजिक और आर्थिक गैरबराबरी को समाप्त किए बिना अपराध को समाप्त करना मुश्किल है। देश में 28 और बिहार में 18 ऐसे जिले हैं जहां लोग हस्ताक्षर करना तक नहीं जानते। ऐसे जिलों में जहां लोग पढ़े-लिखे नहीं हैं वहां सिर्फ कानून के डंडे से अपराध को नहीं रोका जा सकता। खासकर महिलाओं में साक्षरता दर और भी नीचे है। उन्होंने कहा कि सरकार ने इस दिशा में कई कदम उठाए हैं और इसी क्रम में मुख्यमंत्री पोशाक, साइकिल, विवाह और कन्यादान योजनाएं शुरू की गयी हैं। मंत्री ने कहा कि बिहार के पुलिस अधिकारियों को बेहतर ट्रेनिंग नहीं मिल पा रही है। इसको ध्यान में रखकर राज्य में ट्रेनिंग स्कूल खोलने की योजना है। उन्होंने कहा कि अपराध पर स्पीडी ट्रॉयल का काफी असर पड़ा है और भविष्य में इसके और बेहतर परिणाम आएंगे।ड्ढr ड्ढr इसके पहले प्रतिपक्ष के नेता गुलाम गौस ने कहा कि सुशासन में दु:शासनों को गुण्डागर्दी की खुली छूट है।भ्रष्टाचार के मामले में सरकार सिर्फ ‘टेंगरा-पोठिया’ को पकड़ रही है, बड़े-बड़े रोहू और बोआरी पर हाथ डालने का साहस नहीं जुटा पा रही। ताराकांत झा ने पुलिस को ईमानदार बनाने की बात कही। मिश्री लाल यादव ने कहा कि पुलिस में भ्रष्टाचार अब भी कायम है।ड्ढr ड्ढr लक्ष्य दारोगा बनने का और करतूत लूटपाटड्ढr पटना (का.सं.)। लक्ष्य था दारोगा बन कर जिंदगी में नाम कमाना लेकिन लूटपाट के चक्कर में राजेश कुमार सिंह पुलिस के हत्थे चढ़ गया। लूटे गये सामान व अत्याधुनिक असलहों के साथ गिरफ्त में आये पांच शातिर अपराधियों की असलियत जान मंगलवार को पटना पुलिस भी चौंक गई। गैंग का ‘मास्टर माइंड’ सरगना राहुल आनंद ही नहीं बल्कि अन्य गुर्गे राजेश, रंजय, अविनाश व विनय कुमार उर्फ सोनू भी शिक्षित-संभ्रांत मध्यमवर्गीय परिवारों से जुड़े हैं। हालांकि दुनिया की चमक-दमक में अपना रंग जमाने की ललक में ये अपराध की अंधी डगर पर कूद पड़े।ड्ढr ड्ढr प्रेस कांफ्रेंस में डीएसपी (विधि-व्यवस्था) कुमार अमर सिंह व कोतवाली थानाध्यक्ष अभय नारायण सिंह ने बताया कि अपराधियों के पास से तीन छह चक्रीय रिवाल्वर, एक एमएम की पिस्तौल (मेड इन चाइना), 8 मोबाइल, 20 हजार नकद, हजारों के जेवरात, लेडिज पर्स, कारतूस, दो मोटरसाइकिल व अन्य सामान बरामद किये गये हैं। पूछताछ में अपराधियों ने कोतवाली और बुद्धा कॉलोनी में 21 और 23 मार्च को तीन घटनाओं को अंजाम देने की बात कही है। इसके अलावा भी शहर में कई अन्य जगहों पर तांडव मचा कर लुटेरों ने पुलिस-पब्लिक की नींद उड़ा रखी थी। बीएससी आईटी में सेकेंड ईयर तक की पढ़ाई कर चुके सरगना राहुल आनंद उर्फ समी खान (बोरिंग रोड) के नाना हाइकोर्ट में अधिवक्ता हैं। लूटपाट करके करोड़पति बनने के बाद सरगना राहुल आनंद उर्फ समी खान की पटना छोड़ कर मुम्बई की मायानगरी में बसने की तमन्ना थी। आर्म्स एक्ट में सजा मिलने के बाद जमानत पर जेल से बाहर निकलते ही राहुल ने ठान लिया कि उसे लूटपाट ही नहीं अन्य आपराधिक घटनाओं अपहरण, रंगदारी आदि से दो करोड़ नकद अर्जित करना है। हालांकि उस समय उसके हसीन सपने टूट गये जब पुलिस ने दबोचा। ड्ढr ड्ढr वहीं बीसीसीएल के ट्रांसपोर्ट प्रभारी का बेटा छपरा निवासी राजेश दारोगा की शारीरिक परीक्षा पास कर अगले दौर की तैयारी में लगा था। नागेश्वर कॉलोनी स्थित छात्रावास में रह कर वह यूपीएससी और बीपीएससी की परीक्षाओं में भी शामिल हो रहा था। वहीं बीसीए का छात्र रंजय शर्मा लड़की के अपहरण के मामले में जेल जा चुका है। लोदीपुर निवासी इंटर का छात्र अविनाश कुमार उर्फ बंटी गुप्ता दो वर्ष पूर्व कार लूट के मामले में जेल गया था। वहीं मैट्रिक फेल विनय कुमार उर्फ सोनू (बोरिंग रोड) मोटरसाइकिल चोरी के आरोप में पहले जेल की हवा खा चुका है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सूबे में 98 फीसदी अपराधी ग्रेजुएट